Aksharwarta Pre Pdf

Monday, April 13, 2020

कोरोना को हराना है

 

चाहे छाये हर और सूनापन,मिलना हो जाये एक दूजे से कम।

कितना भी मन घबराए,चाहे कितनी भी दहशत बढ़ती जाए।

 *करना है एक ही प्रण,किसी भी तरह कोरोना को हराया जाए।* 

 

व्यवसाय कैसे चल पाएंगे और अब कैसे बच्चे पढ़ पाएंगे।

चाहे कितनी भी विपदाएं आये,घर मे मन कितना भी घबराए।

 *करना है एक ही प्रण,किसी भी तरह कोरोना को हराया जाए।*

 

देश की लड़ाई लड़ते जाए,किसी तरह कोरोना को मार भगाए।

अंधकार से लड़ते जाए,नए उजाले की और बस बढ़ते जाए।

 *करना है एक ही प्रण,किसी भी तरह कोरोना को हराया जाए।*

 

जब अकेले कुछ ना हो पाए,एक दूजे से क्यों ना मिल जाए।

एक दूजे हम समझाए,कोई भी बस घर से बाहर जाने ना पाए।

 *करना है एक ही प्रण,किसी भी तरह कोरोना को हराया जाए।*

 

नीरज त्यागी

ग़ाज़ियाबाद ( उत्तर प्रदेश ).

Aksharwarta's PDF

Aksharwarta - May - 2022 Issue

Aksharwarta - May - 2022 Issue