Aksharwarta Pre Pdf

Thursday, July 30, 2020

नई शिक्षा नीति क्या है ? MHRD का बदला नाम, जानिए पूरी डिटेल

नई शिक्षा नीति क्या है ? MHRD का बदला नाम, जानिए पूरी डिटेल

By Careerindia Hindi Desk

  

New National Education Policy 2020 PDF Download Highlights: नई शिक्षा नीति 2020 (NEP 2020) एनईपी को आज केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मंजूरी दे दी है। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल और IB मंत्री प्रकाश जावड़ेकर शाम 4 बजे मीडिया को जानकारी दी। नई शिक्षा नीति 2020 की घोषणा साथ ही मानव संसाधन प्रबंधन मंत्रालय (MHRD) का नाम बदलकर 'शिक्षा मंत्रालय' कर दिया गया है। नई शिक्षा नीति के अनुसार अब HRD मंत्रालय को शिक्षा मंत्रालय कहा जाएगा। एनईपी को 1986 में बनाया गया था और 1992 में संशोधित किया गया था। 2014 के आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के घोषणा पत्र में नई शिक्षा नीति 2020 को लागू करने का वादा किया गया था। छात्र और शिक्षाविद् यहां नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के बार में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। आइये जानते हैं नई शिक्षा नीति 2020 क्या ? नई शिक्षा नीति कब लागू होगी 2020 में ? नई शिक्षा नीति इन हिंदी, नई शिक्षा नीति 2020 pdf in hindi, नई शिक्षा नीति 2020 pdf download, नई शिक्षा नीति का मसौदा, नई शिक्षा नीति का प्रारूप, नई शिक्षा नीति का ड्राफ्ट समेत पूरी जानकारी...

 

New National Education Policy 2020, New Education Policy,new education policy 2020,new education policy news,new education policy 2019,new education policy india,new education policy 2019 upsc,new education policy draft,new education policy 1986,new education policy 2020 pdf,new education policy and higher education,new education policy after corona,new education policy advantages and disadvantages,new education policy analysis,new education policy article,new education policy act,new education policy announced,new education policy advantages,New National Education Policy,new national education policy 2020 pdf download,new national education policy 2019,new national education policy 1986,new national education policy 2019 pdf in hindi,new national education policy,new national education policy 2019 pdf,new national education policy 2019 in hindi,new national education policy india,national education policy act,national education policy act 27 of 1996,national education policy act 27 of 1996 pdf,national education policy act 1996,national education policy act no. 27 of 1996,national education policy act 2010,national education policy act 27 of 1996 long title,national education policy act pdf,नई शिक्षा नीति, नई शिक्षा नीति क्या है ? नई शिक्षा नीति 2020,नई शिक्षा नीति,नई शिक्षा नीति 2020,नई शिक्षा नीति 2019,नई शिक्षा नीति कब लागू होगी,नई शिक्षा नीति 2020 pdf in hindi,नई शिक्षा नीति 2020 pdf download,नई शिक्षा नीति 2016 pdf,नई शिक्षा नीति 1986,नई शिक्षा नीति 2017 pdf,नई शिक्षा नीति का मसौदा,नई शिक्षा नीति का प्रारूप,नई शिक्षा नीति का ड्राफ्ट,नई शिक्षा नीति का विरोध,नई शिक्षा नीति 2019 का प्रारूप,नई शिक्षा नीति 2019 का ड्राफ्ट,नई शिक्षा नीति 2019 का,नई शिक्षा नीति 2020 b.ed,नई शिक्षा नीति 2019 b.ed,नई शिक्षा नीति कब लागू होगी,नई शिक्षा नीति इन हिंदी 2020,नई शिक्षा नीति PDF,नई शिक्षा नीति 2019 की कमियां,नई शिक्षा नीति 2019 wikipedia,नई शिक्षा नीति 2017 pdf,नई शिक्षा नीति 2019 पर निबंध,नई शिक्षा नीति 2000,शिक्षा समाचार, Education News

ड्राफ्टिंग विशेषज्ञों ने पूर्व कैबिनेट सचिव टी एस सुब्रमण्यन की अध्यक्षता वाले पैनल और एचआरडी मंत्रालय द्वारा गठित पैनल की रिपोर्ट को भी ध्यान में रखा, जब इसकी अध्यक्षता केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी कर रही थीं। केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा बुधवार को मंजूर की गई नई शिक्षा नीति 2020 (NEP 2020) में कई बड़े बदलाव किए गए हैं, जिनमें शीर्ष विदेशी विश्वविद्यालयों को भारत में कैंपस स्थापित करने की अनुमति देना, छात्रों को व्यावसायिक शिक्षा प्राप्त करना और संस्थानों की दिशा में एक बड़ा कदम शामिल है। इस नीति का लक्ष्य "भारत को वैश्विक ज्ञान महाशक्ति" बनाना है। 2040 तक, सभी उच्च शिक्षा संस्थान (HEI) का उद्देश्य बहु-विषयक संस्थान बनना होगा, जिनमें से प्रत्येक का लक्ष्य 3,000 या अधिक छात्र होंगे।

 

 

New National Education Policy 2020

नई शिक्षा नीति 2020 की ब्रीफिंग लाइव अपडेट (New National Education Policy Cabinet Briefing Live Updates: Watch Video)

 

 

 

 

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने द्वारा नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को मंजूरी

 

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 तैयार करने के लिए विश्व की सबसे बड़ी परामर्श प्रक्रिया चलाई गई

 

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की परामर्श प्रक्रिया 26 जनवरी 2019 से 31 अक्टूबर 2019 तक आयोजित

 

उच्च शिक्षा में ये बदलाव

 

उच्च शिक्षा में मल्टीपल इंट्री और एग्जिट का विकल्प

पांच साल का कोर्स वालों एमफिल में छूट

कॉलेजों के एक्रेडिटेशन के आधार पर ऑटोनॉमी

मेंटरिंग के लिए राष्ट्रीय मिशन

हायर एजुकेशन के लिए एक ही रेग्यूलेटर

लीगल एवं मेडिकल एजुकेशन शामिल नहीं

सरकारी और प्राइवेट शिक्षा मानक समान

नेशनल रिसर्च फाउंडेशन (एनआरएफ) की होगी स्थापना

शिक्षा में तकनीकी को बढ़वा

दिव्यांगजनों के लिए शिक्षा में बदलाव

8 क्षेत्रीय भाषाओं में ई-कोर्सेस शुरू

स्कूली शिक्षा में ये बदलाव

 

3 से 6 साल के बच्चों के लिए अर्ली चाइल्डहुड केयर एवं एजुकेशन

एनसीईआरटी द्वारा फाउंडेशनल लिट्रेसी एवं न्यूमेरेसी पर नेशनल मिशन शुरु

9वीं से 12वीं की पढ़ाई की रुपरेखा 5+3+3+4 के आधार पर

बच्चों के लिए नए कौशल: कोडिंग कोर्स शुरू

एक्सट्रा कैरिकुलर एक्टिविटीज-मेन कैरिकुलम में शामिल

वोकेशनल पर जोर: कक्षा 6 से शुरू होगी पढ़ाई

नई नेशनल क्यूरिकुलम फ्रेमवर्क तैयार: बोर्ड एग्जाम दो भाग में

रिपोर्ट कार्ड में लाइफ स्किल्स शामिल

साल 2030 तक हर बच्चे के लिए शिक्षा सुनिश्चित

प्रतियोगी परीक्षाएं

 

एनटीए द्वारा उच्च शिक्षा संस्थानों में एडमिशन के लिए कॉमन एंट्रेंस एग्जाम (सभी पर लागू नहीं)

 

एचआरडी मंत्री डॉ रमेश पोखारियला निशांक ने दी शुभकामनाएं

 

एचआरडी मंत्री डॉ रमेश पोखारियला निशांक ने कहा कि मुझे आशा ही नहीं अपितु पूर्ण विश्वास है कि नई शिक्षा नीति 2020 के माध्यम से भारत अपने वैभव को पुनः प्राप्त करेगा। #NEP2020 को गुणवत्ता, पहुंच, जवाबदेही, सामर्थ्य और समानता के आधार पर एक समूह प्रक्रिया के अंतर्गत बनाया गया है। जहां विद्यार्थियों के कौशल विकास पर ध्यान दिया गया है वहीं पाठ्यक्रम को लचीला बनाया गया है ताकि वे अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा का सफलतापूर्वक मुकाबला कर सके।

 

एचआरडी मंत्री ने कहा कि नई शिक्षा नीति के माध्यम से जहां विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास को सुनिश्चित करने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए जा रहे हैं वहीं समावेशी शिक्षा प्रदान करने के लिए भी हमने सार्थक कदम उठाए हैं। नई शिक्षा नीति 2020 को समान, समावेशी और जीवंत बनाने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। हम माननीय प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में भारत को ज्ञान आधारित महाशक्ति बनाने के लिए कृत संकल्पित हैं।

 

एचआरडी मंत्री रमेश पोखारियला ने कहा कि मेरा मानना है कि नई शिक्षा नीति 2020 के माध्यम से हम भारत को गुणवत्ता परक, नवाचार युक्त, प्रौद्योगिकी युक्त और भारत केंद्रित शिक्षा दे पाने में सफल होंगे। भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में आज कैबिनेट ने भारत के शैक्षिक परिदृश्य को नई ऊंचाई तक पहुंचाने के लिए नई शिक्षा नीति 2020 को मंजूरी दी है जिसके लिए मैं माननीय प्रधानमंत्री जी का आभारी हूँ।

 

 

New National Education Policy 2020 Highlights

स्कूल के बाद वयस्क शिक्षा पाठ्यक्रम

 

वयस्क शिक्षा पाठ्यक्रमों के लिए स्कूल के घंटे और सार्वजनिक पुस्तकालय स्थानों से परे स्कूलों / स्कूल परिसरों का उपयोग जो संभव हो और अन्य सामुदायिक सगाई और संवर्धन गतिविधियों के लिए आईसीटी से लैस होगा।

 

स्कूल लेवल पर वोकेशनल स्टडी पर फोकस

 

प्रत्येक बच्चा कम से कम एक वोकेशन सीखता है और कई और चीजों के संपर्क में आता है।

ग्रेड्स 6-8 के दौरान राज्यों और स्थानीय समुदायों द्वारा तय किए गए महत्वपूर्ण व्यावसायिक शिल्प, जैसे कि बढ़ईगीरी, बिजली का काम, धातु का काम, बागवानी, मिट्टी के बर्तन बनाने आदि का नमूना।

2025 तक, स्कूल और उच्च शिक्षा प्रणाली के माध्यम से कम से कम 50% शिक्षार्थियों को व्यावसायिक शिक्षा के लिए जोखिम होगा

स्थानीय व्यावसायिक विशेषज्ञों जैसे कि बढ़ई, माली, कुम्हार, कलाकार, आदि के साथ 6-8 से 10 वीं की पढ़ाई के दौरान कुछ समय के लिए 10 दिन का बैगलेस पीरियड।

HECI- संपूर्ण उच्च शिक्षा के लिए सामान्य नियामक संस्था

 

भारतीय उच्चतर शिक्षा आयोग (HECI) की स्थापना मेडिकल और कानूनी शिक्षा को छोड़कर पूरे उच्च शिक्षा के लिए एक एकल अतिव्यापी छतरी निकाय के रूप में की जाएगी। HECI के पास चार स्वतंत्र कार्यक्षेत्र हैं - नियमन के लिए राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा नियामक परिषद (NHERC), मानक सेटिंग के लिए सामान्य शिक्षा परिषद (GEC), वित्त पोषण के लिए उच्च शिक्षा अनुदान परिषद (HEGC), और मान्यता के लिए राष्ट्रीय प्रत्यायन परिषद (NAC)।

 

विकलांग बच्चों के लिए विभिन्न नए प्रावधान

 

विकलांग बच्चों को क्रॉस विकलांगता प्रशिक्षण, संसाधन केंद्र, आवास, सहायक उपकरण, उपयुक्त प्रौद्योगिकी-आधारित उपकरण और अन्य सहायता तंत्रों के अनुरूप शिक्षकों के समर्थन के साथ, नींव चरण से उच्च शिक्षा तक नियमित स्कूली शिक्षा प्रक्रिया में पूरी तरह से भाग लेने में सक्षम बनाया जाएगा। उनकी आवश्यकताओं के अनुरूप। प्रत्येक राज्य / जिले को कला-संबंधी, कैरियर-संबंधी और खेल-संबंधी गतिविधियों में भाग लेने के लिए एक विशेष बोर्डिंग स्कूल के रूप में "बाल भवन" स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। मुफ्त स्कूल के बुनियादी ढांचे का उपयोग समाज चेतना केंद्रों के रूप में किया जा सकता है।

 

सकल घरेलू उत्पाद का 6% शिक्षा क्षेत्र को, पहले यह 1.7% था

 

राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी का कहना है कि मैं मोदी सरकार की नई शिक्षा नीति का स्वागत करता हूं। मैंने MoHD के साथ पहले चर्चा की थी जो मैंने ट्वीट किया था। मेरा सुझाव था कि शिक्षा जीडीपी का 6% होना चाहिए वर्तमान 1.7% नहीं। नई नीति में इसे स्वीकार कर लिया गया है। मेरी बधाई।

 

बैग का बोझ कम

 

कला, क्विज़, खेल और व्यावसायिक शिल्प से जुड़े विभिन्न प्रकार के संवर्धन गतिविधियों को प्रोत्साहित किया जाएगा।

 

शिक्षा का माध्यम स्थानीय / क्षेत्रीय भाषा में होगा

 

जहां भी संभव हो, अनुदेश का माध्यम कम से कम ग्रेड 5 तक, लेकिन अधिमानतः ग्रेड 8 और उसके बाद तक, घरेलू भाषा / मातृभाषा / स्थानीय भाषा / क्षेत्रीय भाषा होगी। बच्चों द्वारा सीखी गई तीन-भाषा राज्यों, क्षेत्रों और छात्रों की पसंद होगी।

 

भारतीय सांकेतिक भाषा का विकास

 

भारतीय साइन लैंग्वेज (ISL) को पूरे देश में मानकीकृत किया जाएगा, और राष्ट्रीय और राज्य पाठ्यक्रम सामग्री विकसित की जाएगी, जिसे सुनने वाले छात्रों द्वारा उपयोग किया जाएगा।

 

छात्रों के लिए स्ट्रीम

 

छात्रों को विशेष रूप से माध्यमिक विद्यालय में - शारीरिक शिक्षा, कला और शिल्प, और व्यावसायिक कौशल के विषयों सहित अध्ययन करने के लिए विषयों की को सही से बढ़ाया जाएगा।

विज्ञान, मानविकी और गणित के अलावा शारीरिक शिक्षा, कला और शिल्प और व्यावसायिक कौशल जैसे विषय पूरे स्कूल पाठ्यक्रम में शामिल किए जाएंगे।

स्कूली शिक्षा के चार चरणों में से प्रत्येक, एक सेमेस्टर या किसी अन्य प्रणाली की ओर बढ़ने पर विचार कर सकता है जो छोटे मॉड्यूल को शामिल करने की अनुमति दे सकता है।

सभी चरणों में प्रायोगिक शिक्षा

 

प्रायोगिक शिक्षण में मानक शिक्षण के रूप में हाथों पर सीखने, कला-एकीकृत और खेल-एकीकृत शिक्षा, कहानी-आधारित शिक्षाशास्त्र, अन्य शामिल होंगे। कक्षाएं योग्यता-आधारित शिक्षा पर आधारित होंगी।

 

सामग्री विचार, अनुप्रयोग, समस्या-समाधान पर केंद्रित होगी

 

अनिवार्य सामग्री मुख्य अवधारणाओं, विचारों, अनुप्रयोगों और समस्या-समाधान पर केंद्रित होगी। शिक्षण और सीखने का संचालन अधिक संवादात्मक तरीके से किया जाएगा।

 

पाठ्यक्रम सामग्री को कम किया जाना

 

पाठ्यचर्या की सामग्री को प्रत्येक विषय में इसकी मूल अनिवार्यता को कम किया जाएगा, और महत्वपूर्ण सोच और अधिक समग्र, पूछताछ-आधारित, खोज-आधारित, चर्चा-आधारित और विश्लेषण-आधारित सीखने के लिए जगह बनाई जाएगी।

 

NIOS: ओपन स्कूल में ग्रेड 3,5 और 8 के लिए पाठ्यक्रम

 

एनआईओएस और स्टेट ओपन स्कूल ए, बी और सी स्तरों की पेशकश भी करेंगे जो औपचारिक स्कूल प्रणाली के ग्रेड 3, 5 और 8 के बराबर हैं; माध्यमिक शिक्षा कार्यक्रम जो ग्रेड 10 और 12 के बराबर हैं; व्यावसायिक शिक्षा पाठ्यक्रम / कार्यक्रम; और वयस्क साक्षरता और जीवन-संवर्धन कार्यक्रम।

 

पोषण और स्वास्थ्य कार्ड, स्कूल के छात्रों के लिए नियमित स्वास्थ्य जांच

 

बच्चों के पोषण और स्वास्थ्य (मानसिक स्वास्थ्य सहित) को स्वस्थ भोजन और नियमित स्वास्थ्य जांच के माध्यम से संबोधित किया जाएगा, और उसी की निगरानी के लिए स्वास्थ्य कार्ड जारी किए जाएंगे।

 

राष्ट्रीय मिशन पर एमएचआरडी द्वारा स्थापित किए जाने वाले फाउंडेशन साक्षरता और न्यूमेरसी

 

मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) द्वारा प्राथमिक साक्षरता और न्यूमेरसी पर एक राष्ट्रीय मिशन प्राथमिकता पर स्थापित किया जाएगा।

 

बचपन की देखभाल और शिक्षा पाठ्यक्रम

 

बचपन की देखभाल और शिक्षा पाठ्यक्रम (ECCEC) की योजना और कार्यान्वयन मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD), महिला और बाल विकास (WCD), स्वास्थ्य और परिवार कल्याण (HFW), और जनजातीय मामलों के मंत्रालयों द्वारा संयुक्त रूप से किया जाएगा।

 

ऐप, टीवी चैनल आदि के माध्यम से पढ़ाई

 

प्रौढ़ शिक्षा के लिए गुणवत्तापूर्ण प्रौद्योगिकी-आधारित विकल्प जैसे ऐप, ऑनलाइन पाठ्यक्रम / मॉड्यूल, उपग्रह-आधारित टीवी चैनल, ऑनलाइन किताबें, और आईसीटी से सुसज्जित पुस्तकालय और वयस्क शिक्षा केंद्र आदि विकसित किए जाएंगे।

 

5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए प्रारंभिक कक्षा बालवाटिका

 

5 वर्ष की आयु से पहले हर बच्चा एक "प्रारंभिक कक्षा" या "बालवाटिका" (जो कि कक्षा 1 से पहले है) में स्थानांतरित हो जाएगा, जिसमें एक ईसीसीई-योग्य शिक्षक है।

 

कक्षा 6 से शिक्षा प्राप्त करने के लिए कोडिंग

 

स्कूल शिक्षा सचिव ने कहा कि कक्षा 6 और उसके बाद के छात्रों को 21 वीं सदी के कौशल के एक भाग के रूप में स्कूलों में कोडिंग सिखाई जाएगी।

 

बोर्ड परीक्षा का महत्व कम, वर्ष में दो बार परीक्षा आयोजित की जा सकती है

 

बोर्ड परीक्षा के महत्व और तनाव को कम करने के लिए, परीक्षा दो भागों में आयोजित की जाएगी: उद्देश्य और वर्णनात्मक। परीक्षा वर्ष में दो बार आयोजित की जा सकती है। बोर्ड परीक्षा में रट्टा सीखने के बजाय ज्ञान आवेदन को बढ़ावा देना चाहिए।

 

बोर्ड परीक्षा के लिए परिवर्तनीय मॉडल - वार्षिक, सेमेस्टर, मॉड्यूलर परीक्षा

 

बोर्ड समय के साथ बोर्ड बोर्ड के आगे व्यवहार्य मॉडल विकसित कर सकते हैं, जैसे कि - वार्षिक / सेमेस्टर / मॉड्यूलर बोर्ड परीक्षा; गणित से शुरू होने वाले सभी विषयों को दो स्तरों पर प्रस्तुत करना; दो भाग परीक्षा या वस्तुनिष्ठ प्रकार और वर्णनात्मक प्रकार।

 

छात्रों के लिए 360 डिग्री समग्र रिपोर्ट कार्ड

 

छात्रों को 360 डिग्री समग्र रिपोर्ट कार्ड मिलेगा, जो न केवल विषयों में उनके द्वारा प्राप्त अंकों के बारे में सूचित करेगा, बल्कि उनके कौशल और अन्य महत्वपूर्ण बिंदुओं को भी बताएगा।

 

आम प्रवेश परीक्षा की पेशकश करने के लिए एनटीए

 

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा के लिए हर साल कम से कम दो बार विज्ञान, मानविकी, भाषा, कला, और व्यावसायिक विषयों में उच्च गुणवत्ता वाली सामान्य योग्यता परीक्षा, साथ ही विशिष्ट सामान्य विषय परीक्षा की पेशकश करेगी।

 

 

50% सकल नामांकन अनुपात का लक्ष्य

 

शिक्षा मंत्री के सचिव अमित खरे ने कहा कि हम 2035 तक 50% सकल नामांकन अनुपात का लक्ष्य रखते हैं। बीच में कोर्स छोड़ने के इच्छुक लोगों के लिए कई प्रवेश और निकास विकल्प होंगे। उनके क्रेडिट को अकादमिक बैंक ऑफ क्रेडिट्स के माध्यम से स्थानांतरित किया जाएगा।

 

34 साल बाद 21 वीं सदी के लिए नई नीति को मंजूरी

 

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के तहत कैबिनेट ने 21 वीं सदी के लिए एक नई शिक्षा नीति को मंजूरी दी है। यह महत्वपूर्ण है, क्योंकि 34 वर्षों तक शिक्षा नीति में कोई बदलाव नहीं हुए।

 

एनईपी 2020: क्षेत्रीय भाषा में ई-सामग्री

 

अंग्रेजी और हिंदी के अलावा क्षेत्रीय भाषा में भी ई-कंटेंट होगा।

 

नई शैक्षणिक और पाठ्यक्रम संरचना

 

स्कूली शिक्षा में मौजूदा 10 + 2 संरचना को 3-18 की आयु वाले 5 + 3 + 3 + 4 को कवर करते हुए एक नया शैक्षणिक और पाठ्यक्रम पुनर्गठन के साथ संशोधित किया जाएगा। वर्तमान में, 3-6 आयु वर्ग के बच्चों को 10 + 2 संरचना में शामिल नहीं किया जाता है क्योंकि कक्षा 1 की उम्र 6 से शुरू होती है। नए 5 + 3 + 3 + 4 संरचना में, प्रारंभिक बचपन देखभाल और शिक्षा का एक मजबूत आधार ( 3 वर्ष की आयु से ECCE) भी शामिल है।

 

एनसीईआरटी द्वारा विकसित किए जाने वाले राष्ट्रीय पाठ्यक्रम और शैक्षणिक ढांचा

 

स्कूल शिक्षा सचिव अनीता करवाल ने कहा कि 8 वर्ष की आयु तक के बच्चों के लिए प्रारंभिक बचपन देखभाल और शिक्षा के लिए एक राष्ट्रीय पाठ्यचर्या और शैक्षणिक ढांचा, NCERT द्वारा विकसित किया जाएगा।

 

What are the new education policies?

 

What is the new education policy of India?

 

How many education policies are there in India?

 

What are the objective of national policy on education?

 

What is the other name of revised national policy?

 

Who is the chairman of national education policy?

 

Who was the chairman of National Policy of Education 1986?

 

Who is the chairman of Draft of New Policy on Education 2016?

 

 

What is new national education policy?

 

KNOW ALL QUESTIONS ANSWER HERE

 

नई शिक्षा नीति 2020 क्या है ? (What is The National Education Policy (NEP) 2020? Of India)

 

नई शिक्षा नीति 1986 की शिक्षा नीति की जगह पर लागू की गई है। नई शिक्षा नीति 2020 के अंदर तीन साल से 18 साल तक के बच्चों को शिक्षा का अधिकार कानून, 2009 के अंदर रखा गया है। नई शिक्षा नीति का उद्देश्य सभी छात्रों को उच्च शिक्षा प्रदान करना है।

 

पूर्व-प्राथमिक शिक्षा: नई शिक्षा नीति का उद्देश्य 2025 तक पूर्व-प्राथमिक शिक्षा (3-6 वर्ष की आयु सीमा) को सार्वभौमिक बनाना और 2025 तक सभी के लिए मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता प्रदान करना है।

 

शिक्षा के लिए सार्वभौमिक पहुंच: ड्रॉपआउट्स को पुन: स्थापित करने और शिक्षा के लिए सार्वभौमिक पहुंच सुनिश्चित करने के लिए, एनईपी ने 2030 तक 3-18 वर्ष की आयु के सभी बच्चों के लिए मुफ्त और अनिवार्य स्कूली शिक्षा में पहुंच और भागीदारी प्राप्त करने का एक उद्देश्य निर्धारित किया है।

 

नई सर्कुलर और स्ट्रक्चर: नई शिक्षा नीति में नया सर्कुलर और शैक्षणिक संरचना का प्रस्ताव है, जिसमें 5 + 3 + 3 + 4 डिजाइन है, जो कि आयु वर्ग के 3-18 वर्ष के बच्चों को कवर करता है।

 

इसके तहत (I) पांच साल का फाउंडेशनल स्टेज: 3 साल का प्री-प्राइमरी स्कूल और ग्रेड 1, 2;

 

(II) तीन साल की तैयारी (या लैटर प्राइमरी) स्टेज: ग्रेड 3, 4, 5;

 

(III) मध्य (या उच्च प्राथमिक) चरण के तीन साल: ग्रेड 6, 7, 8 और

 

(IV) चार साल का उच्च (या माध्यमिक) चरण: ग्रेड 9, 10, 11, 12।

 

कला और विज्ञान: नई शिक्षा नीति का उद्देश्य छात्रों को कला, मानविकी, विज्ञान, खेल और व्यावसायिक विषयों में अध्ययन करने के लिए लचीलेपन और विषयों की पसंद को बढ़ाना है।

 

स्थानीय भाषा / मातृभाषा में शिक्षा: चूंकि बच्चे 2-8 वर्षों के बीच सबसे जल्दी भाषा सीखते हैं, और बहुभाषावाद के छात्रों के लिए महान संज्ञानात्मक लाभ होते हैं, इसलिए बच्चों को प्रारंभिक अवस्था से ही तीन भाषाओं में विसर्जित कर दिया जाएगा।

 

स्कूलों में तीन भाषा फार्मूले की निरंतरता: तीन भाषा फार्मूला, शिक्षा नीति पर राष्ट्रीय नीति 1968 को अपनाने के बाद से, और शिक्षा नीति 1986/1992 के साथ-साथ NCF 2005 में राष्ट्रीय नीति पर समर्थन जारी रखते हुए, जारी रखा जाएगा। लोगों, क्षेत्रों और संघ के संवैधानिक प्रावधानों और आकांक्षाओं को ध्यान में रखें।

 

भारत की शास्त्रीय भाषाओं के लिए एक्सपोजर: देश में हर छात्र 6-8 ग्रेड में कुछ समय के लिए "भारत की भाषा" पर एक मजेदार कोर्स करेगा। बच्चों के संवर्धन के लिए, और इन समृद्ध भाषाओं और उनके कलात्मक खजाने के संरक्षण के लिए। , सभी स्कूलों में सभी छात्र, सार्वजनिक या निजी, माध्यमिक शिक्षा और विश्वविद्यालय के माध्यम से जारी रखने के विकल्प के साथ ग्रेड 6-8 में भारत की शास्त्रीय भाषा के कम से कम दो साल लगेंगे।

 

शारीरिक शिक्षा: स्कूल के सभी स्तरों पर सभी छात्रों को नियमित रूप से खेल और खेल, खेल, योग, मार्शल आर्ट, नृत्य, बागवानी, और बहुत कुछ, जिसमें शिक्षकों और सुविधाओं की स्थानीय उपलब्धता के अनुसार शारीरिक गतिविधि और व्यायाम में भाग लेने के अवसर होंगे। ।

 

राज्य विद्यालय नियामक प्राधिकरण: प्रत्येक राज्य के लिए राज्य विद्यालय नियामक प्राधिकरण नामक एक स्वतंत्र, राज्यव्यापी, नियामक संस्था बनाई जाएगी।

 

राष्ट्रीय अनुसंधान फाउंडेशन: एक राष्ट्रीय अनुसंधान फाउंडेशन की स्थापना सभी विषयों में उत्कृष्ट अनुसंधान प्रस्तावों के लिए प्रतिस्पर्धी वित्तपोषण प्रदान करने के लिए की जाएगी, जैसा कि सहकर्मी की समीक्षा और प्रस्तावों की सफलता से निर्धारित होता है।

 

राष्ट्रीय शिक्षा आयोग: NEP का लक्ष्य भारत के प्रधान मंत्री की अध्यक्षता में एक नया सर्वोच्च निकाय, राष्ट्रीय शिक्षायोग या राष्ट्रीय शिक्षा आयोग बनाना है। यह दंड देश में शिक्षा की दृष्टि को विकसित करने, कलाकारी, कार्यान्वयन, मूल्यांकन और संशोधन के लिए जिम्मेदार होगा।

 

नई शिक्षा नीति के उद्देश्य क्या है ? (What Is New Education Policy 2020 Objectives ?)

 

नीति के घोषित उद्देश्यों में से एक भारतीय होने में "गहरी जड़ें गर्व" पैदा करना है, न केवल विचार में, बल्कि आत्मा, बुद्धि और कर्मों में, साथ ही साथ ज्ञान, कौशल, मूल्यों और प्रस्तावों को विकसित करना है। जो मानवाधिकारों, स्थायी विकास और जीवन यापन और वैश्विक कल्याण के लिए जिम्मेदार प्रतिबद्धता का समर्थन करता है।

 

इस नीति का उद्देश्य उच्च शिक्षा के साथ-साथ ओ पहुंच, इक्विटी और समावेशन के लिए एकल नियामक द्वारा "हल्का लेकिन तंग" विनियमन करना है। NEP का कहना है कि 2040 तक, सभी उच्च शिक्षा संस्थान (HEI) का उद्देश्य बहु-विषयक संस्थान बनना होगा, जिनमें से प्रत्येक का लक्ष्य 3,000 या अधिक छात्र होंगे। 2030 तक, हर जिले में या उसके आसपास कम से कम एक बड़ी बहु-विषयक संस्था होगी।

 

इसका उद्देश्य उच्च शिक्षा में सकल नामांकन अनुपात को बढ़ाना होगा, जिसमें 2035 तक व्यावसायिक शिक्षा को 26.3% से बढ़ाकर 50% किया जाएगा। एकल-स्ट्रीम उच्च शिक्षा संस्थानों को समय के साथ समाप्त कर दिया जाएगा, और सभी बहु-विषयक बनने की ओर बढ़ेंगे। 'संबद्ध कॉलेजों की प्रणाली को धीरे-धीरे 15 वर्षों में समाप्त कर दिया जाएगा।

 

देश में HEI के वर्तमान जटिल नामकरण जैसे कि 'विश्वविद्यालय माना जाता है', 'संबद्ध विश्वविद्यालय', 'संबद्ध तकनीकी विश्वविद्यालय', 'एकात्मक विश्वविद्यालय' को 'विश्वविद्यालय' द्वारा बदल दिया जाएगा। एक विश्वविद्यालय का मतलब एक बहु-विषयक संस्थान होगा जो उच्च गुणवत्ता वाले शिक्षण, अनुसंधान और सामुदायिक सहभागिता के साथ स्नातक और स्नातक कार्यक्रम प्रदान करता है।

 

परिभाषा उन संस्थानों से एक स्पेक्ट्रम की अनुमति देगी जो शिक्षण और अनुसंधान पर समान जोर देते हैं, अर्थात्, अनुसंधान-गहन विश्वविद्यालयों को शिक्षण-गहन विश्वविद्यालयों के लिए। वर्तमान नामकरण जैसे कि 'विश्वविद्यालय के रूप में समझा जाने वाला', 'संबद्ध विश्वविद्यालय', 'संबद्ध तकनीकी विश्वविद्यालय', 'एकात्मक विश्वविद्यालय' के साथ किया जाएगा।

 

नई शिक्षा नीति 2020 से क्या होगा (What will happen with the new education policy 2020 ?)

 

• यहां तक ​​कि IIT जैसे इंजीनियरिंग संस्थान, अधिक कला और मानविकी के साथ समग्र और बहु-विषयक शिक्षा की ओर बढ़ेंगे। कला और मानविकी के छात्र अधिक विज्ञान सीखने का लक्ष्य रखेंगे।

 

• भाषा, साहित्य, संगीत, दर्शन, कला, नृत्य, रंगमंच, शिक्षा, गणित, सांख्यिकी, शुद्ध और अनुप्रयुक्त विज्ञान, समाजशास्त्र, अर्थशास्त्र, खेल, अनुवाद और व्याख्या आदि विभागों को सभी HEI में स्थापित और मजबूत किया जाएगा।

 

• स्नातक की डिग्री 3 या 4 साल की अवधि की होगी, जिसमें कई विकल्प होंगे। उदाहरण के लिए व्यावसायिक या व्यावसायिक क्षेत्रों, या 2 साल के अध्ययन के बाद डिप्लोमा, या 3 साल के कार्यक्रम के बाद स्नातक की डिग्री सहित एक अनुशासन या क्षेत्र में 1 साल पूरा करने के बाद एक प्रमाण पत्र। 4-वर्षीय बहु-विषयक बैचलर प्रोग्राम, हालांकि, पसंदीदा विकल्प होगा।

 

• एक अकादमिक बैंक ऑफ क्रेडिट (एबीसी) स्थापित किया जाएगा जो अर्जित किए गए अकादमिक क्रेडिट को डिजिटल रूप से संग्रहीत करेगा।

 

• यदि छात्र एक कठोर अनुसंधान परियोजना को पूरा करता है, तो 4-वर्षीय कार्यक्रम भी 'अनुसंधान के साथ' हो सकता है।

 

• IIT, IIM, आदि के साथ समग्र और बहु-विषयक शिक्षा के लिए मॉडल सार्वजनिक विश्वविद्यालय, जिन्हें MERUs (बहु-विषयक शिक्षा और अनुसंधान विश्वविद्यालय) कहा जाता है, स्थापित किए जाएंगे।

 

• उच्च शिक्षा संस्थान निरंतर और व्यापक मूल्यांकन की दिशा में उच्च स्तर की परीक्षाओं से दूर हो जाएंगे।

 

• भारत को सस्ती लागत पर प्रीमियम शिक्षा प्रदान करने वाले वैश्विक अध्ययन गंतव्य के रूप में बढ़ावा दिया जाएगा। विदेशी छात्रों की मेजबानी करने वाले प्रत्येक संस्थान में एक अंतर्राष्ट्रीय छात्र कार्यालय स्थापित किया जाएगा।

 

• उच्च प्रदर्शन करने वाले भारतीय विश्वविद्यालयों को अन्य देशों में परिसर स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। दुनिया के शीर्ष 100 विश्वविद्यालयों में से चयनित विश्वविद्यालयों को भारत में काम करने की सुविधा प्रदान की जाएगी।

 

• ऐसी प्रविष्टि की सुविधा देने वाला एक विधायी ढांचा रखा जाएगा, और ऐसे विश्वविद्यालयों को भारत के अन्य स्वायत्त संस्थानों के साथ विनियामक, शासन, और सामग्री मानदंडों के बारे में विशेष जानकारी दी जाएगी।

 

• प्रत्येक शिक्षा संस्थान में, तनाव और भावनात्मक समायोजन से निपटने के लिए परामर्श प्रणाली होगी।

 

• एससी, एसटी, ओबीसी, और अन्य एसईडीजी से संबंधित छात्रों की योग्यता को प्रोत्साहित करने का प्रयास किया जाएगा।

 

• व्यावसायिक शिक्षा को अगले दशक में चरणबद्ध तरीके से सभी स्कूल और उच्च शिक्षा संस्थानों में एकीकृत किया जाएगा। 2025 तक, स्कूल और उच्च शिक्षा प्रणाली के माध्यम से कम से कम 50% शिक्षार्थियों को व्यावसायिक शिक्षा के लिए जोखिम होगा।

 

• B.Voc। 2013 में शुरू की गई डिग्री मौजूद रहेगी, लेकिन अन्य सभी स्नातक कार्यक्रमों में नामांकित छात्रों के लिए व्यावसायिक पाठ्यक्रम भी उपलब्ध होंगे, जिनमें 4-वर्षीय बहु-विषयक स्नातक कार्यक्रम शामिल हैं।

 

•, लोक विद्या ', अर्थात, भारत में विकसित महत्वपूर्ण व्यावसायिक ज्ञान, छात्रों के लिए सुलभ बनाया जाएगा। मानव संसाधन विकास मंत्रालय, जिसे शिक्षा मंत्रालय का नाम दिया जा सकता है, व्यावसायिक शिक्षा के एकीकरण के लिए एक राष्ट्रीय समिति का गठन करेगा (NCIVE

 

• नीति एक राष्ट्रीय अनुसंधान फाउंडेशन (NRF) बनाने के लिए भी बोलती है।

 

• इस नीति में भारत के एक उच्च शिक्षा आयोग (HECI) के निर्माण का भी उल्लेख है।

 

नई शिक्षा नीति (NEP), बुधवार को केंद्र द्वारा अनुमोदित, देश भर के उच्च शिक्षा संस्थानों के लिए एक एकल नियामक - HECI- की परिकल्पना करती है। भारतीय उच्चतर शिक्षा परिषद (HECI) में विभिन्न भूमिकाओं को पूरा करने के लिए कई कार्यक्षेत्र होंगे।

 

HECI की पहली ऊर्ध्वाधर राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा नियामक परिषद (NHERC) होगी। यह शिक्षक शिक्षा सहित उच्च शिक्षा क्षेत्र के लिए सामान्य, एकल बिंदु नियामक के रूप में कार्य करेगा। हालांकि, यह चिकित्सा और कानूनी शिक्षा को बाहर करेगा।

 

HECI की दूसरी ऊर्ध्वाधर, एक 'मेटा-मान्यता प्राप्त निकाय' होगी, जिसे राष्ट्रीय प्रत्यायन परिषद (NAC) कहा जाता है। संस्थानों का प्रत्यायन मुख्य रूप से बुनियादी मानदंडों, सार्वजनिक स्व-प्रकटीकरण, सुशासन, और परिणामों पर आधारित होगा, और इसे नैक द्वारा निगरानी और देखरेख करने वाले मान्यता प्राप्त संस्थानों के एक स्वतंत्र पारिस्थितिकी तंत्र द्वारा किया जाएगा।

 

HECI का तीसरा वर्टिकल हायर एजुकेशन ग्रांट काउंसिल (HEGC) होगा, जो कॉलेजों और वर्सिटीज की फंडिंग और फाइनेंसिंग करेगा।

 

HECI का चौथा वर्टिकल जनरल एजुकेशन काउंसिल (GEC) होगा, जो उच्च शिक्षा कार्यक्रमों के लिए अपेक्षित सीखने के परिणामों को फ्रेम करेगा, जिसे attributes स्नातक गुण 'भी कहा जाता है। GEC द्वारा एक राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा योग्यता फ्रेमवर्क (NHEQF) तैयार किया जाएगा।

 

वर्तमान में, उच्च शिक्षा निकायों का विनियमन विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी), अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) और राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) जैसे निकायों के माध्यम से किया जाता है।

 

• विनियमन (NHERC), प्रत्यायन (NAC), निधिकरण (HEGC), और शैक्षणिक मानक सेटिंग (GEC) और ओवररचिंग ऑटोनॉमस छाता बॉडी (HECI) के लिए सभी स्वतंत्र वर्टिकल का कामकाज स्वयं पारदर्शी सार्वजनिक प्रकटीकरण पर आधारित होगा, और अपने काम में दक्षता और पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए मानव इंटरफ़ेस को कम करने के लिए प्रौद्योगिकी का बड़े पैमाने पर उपयोग करें।

 

• व्यावसायिक परिषद, जैसे कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR), पशु चिकित्सा परिषद (VCI), राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (NCTE), वास्तुकला परिषद (CoA), राष्ट्रीय व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण परिषद (NCVET) ) आदि, पेशेवर मानक सेटिंग निकायों (PSSBs) के रूप में कार्य करेगा।

 

• कार्यों के पृथक्करण का मतलब होगा कि एचईसीआई के भीतर प्रत्येक ऊर्ध्वाधर एक नई, एकल भूमिका पर ले जाएगा जो नई नियामक योजना में प्रासंगिक, सार्थक और महत्वपूर्ण है।

 

नई शिक्षा नीति क्या है ? What is new national education policy 2020 Highlights?

 

• भारतीय अनुवाद और व्याख्या संस्थान (IITI) ने प्रस्तावित किया

 

नई शिक्षा नीति में संस्कृत और अन्य भारतीय भाषाओं पर महत्वपूर्ण जोर देते हुए एक भारतीय अनुवाद और व्याख्या संस्थान (IITI) की स्थापना का प्रस्ताव है।

 

• नेशनल रिसर्च फाउंडेशन (NRF) की स्थापना की जाएगी

 

एक राष्ट्रीय अनुसंधान फाउंडेशन (NRF) स्थापित किया जाएगा। एनआरएफ का अतिव्यापी लक्ष्य विश्वविद्यालयों के माध्यम से शोध की संस्कृति को सक्षम बनाना होगा। NRF शासित होगा, स्वतंत्र रूप से सरकार, एक घूर्णन बोर्ड ऑफ गवर्नर्स द्वारा जिसमें क्षेत्रों में बहुत ही बेहतरीन शोधकर्ता और नवप्रवर्तक शामिल होंगे।

 

• वोकेशन एजुकेशन के एकीकरण के लिए राष्ट्रीय समिति -लोक विद्या

 

लोक विद्या, अर्थात्, भारत में विकसित महत्वपूर्ण व्यावसायिक ज्ञान, छात्रों के लिए सुलभ बनाया जाएगा। शिक्षा मंत्रालय, व्यावसायिक शिक्षा के एकीकरण के लिए एक राष्ट्रीय समिति (NCIVE) का गठन करेगा।

 

•अन्य देशों में कैम्पस स्थापित करने के लिए सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय

 

उच्च प्रदर्शन करने वाले भारतीय विश्वविद्यालयों को अन्य देशों में परिसर स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। दुनिया के शीर्ष 100 विश्वविद्यालयों में से चयनित विश्वविद्यालयों को भारत में काम करने की सुविधा प्रदान की जाएगी।

 

नई शिक्षा नीति के लाभ क्या है

 

• सभी शिक्षा संस्थानों को ऑडिट और प्रकटीकरण के समान मानकों के लिए आयोजित किया जाएगा लाभ के लिए नहीं। NEP 2020 के अनुसार, यदि कोई हो, तो सरप्लस, शैक्षिक क्षेत्र में पुनर्निवेश किया जाएगा।

 

• इन सभी वित्तीय मामलों का पारदर्शी सार्वजनिक प्रकटीकरण होगा जिसमें आम जनता के लिए शिकायत से निपटने वाले तंत्र शामिल होंगे। एक राष्ट्रीय प्रत्यायन परिषद द्वारा विकसित मान्यता प्रणाली इस प्रणाली पर एक पूरक जांच प्रदान करेगी, और एक राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा नियामक परिषद (NHERC) इस पर अपने नियामक उद्देश्य के प्रमुख आयामों में से एक के रूप में विचार करेगी।

 

• निजी एचईआई द्वारा निर्धारित सभी शुल्क और शुल्क पारदर्शी रूप से और पूरी तरह से बताए जाएंगे, और किसी भी छात्र के नामांकन की अवधि के दौरान इन फीस में कोई मनमानी वृद्धि नहीं होगी। यह शुल्क निर्धारण तंत्र, यह सुनिश्चित करते हुए लागत की उचित वसूली सुनिश्चित करेगा कि HEI अपने सामाजिक दायित्वों का निर्वहन करता है।

 

• श्रेणीबद्ध मान्यता और श्रेणीबद्ध स्वायत्तता की एक उपयुक्त प्रणाली के माध्यम से, और 15 वर्षों की अवधि में चरणबद्ध तरीके से, भारत के सभी HEI का उद्देश्य नवप्रवर्तन और उत्कृष्टता का पीछा करते हुए स्वतंत्र स्वशासी संस्थान बनना होगा।

 

• ऐसे कदम के लिए तैयार संस्था को उपयुक्त ग्रेडेड मान्यता प्राप्त होने पर, बोर्ड ऑफ गवर्नर्स (BoG) स्थापित किया जाएगा। नीति के अनुसार, सदस्यों का चयन करते समय इक्विटी के विचारों का भी ध्यान रखा जाएगा।

 

• किसी संस्था का BoG किसी भी बाहरी हस्तक्षेप से मुक्त संस्था को संचालित करने के लिए सशक्त होगा। इस बात की परिकल्पना की गई है कि इस प्रक्रिया के दौरान सभी HEI को प्रोत्साहन, समर्थन और सलाह दी जाएगी, और इसका उद्देश्य स्वायत्त बनना होगा और 2035 तक ऐसे सशक्त BoG होंगे।

 

• स्टैंड-अलोन कृषि विश्वविद्यालय, कानूनी विश्वविद्यालय, स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय, तकनीकी विश्वविद्यालय और अन्य क्षेत्रों में स्टैंड-अलोन संस्थान, का उद्देश्य समग्र और बहु-विषयक शिक्षा प्रदान करने वाली बहु-विषयक संस्थाएँ बनना होगा।

 

• सभी संस्थान जो या तो पेशेवर या सामान्य शिक्षा प्रदान करते हैं, का उद्देश्य व्यवस्थित रूप से संस्थानों / समूहों में दोनों को मूल रूप से विकसित करना होगा, और 2030 तक एकीकृत तरीके से।

 

• कृषि और संबद्ध विषयों की क्षमता और गुणवत्ता दोनों में सुधार किया जाना चाहिए ताकि बेहतर कुशल स्नातकों और तकनीशियनों, नवीन अनुसंधान और प्रौद्योगिकियों और प्रथाओं से जुड़े बाजार-आधारित विस्तार के माध्यम से कृषि उत्पादकता को बढ़ाया जा सके।

 

• कृषि शिक्षा प्रदान करने वाले संस्थानों को स्थानीय समुदाय को सीधे लाभान्वित करना चाहिए; प्रौद्योगिकी ऊष्मायन और प्रसार को बढ़ावा देने और टिकाऊ कार्यप्रणाली को बढ़ावा देने के लिए कृषि प्रौद्योगिकी पार्क स्थापित करने के लिए एक दृष्टिकोण, नीति का एक और आकर्षण है।

 

• कानूनी शिक्षा को विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाने की आवश्यकता है, सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाते हुए और न्याय तक व्यापक पहुंच के लिए नई तकनीकों को अपनाते हुए।

 

• हेल्थकेयर शिक्षा को फिर से लागू करने की आवश्यकता है ताकि शैक्षिक कार्यक्रमों की अवधि, संरचना और डिजाइन की भूमिका आवश्यकताओं से मेल खाने की आवश्यकता हो जो कि स्नातक खेलेंगे।

 

• यह देखते हुए कि लोग स्वास्थ्य सेवा में बहुलवादी विकल्पों का उपयोग करते हैं, हमारी स्वास्थ्य शिक्षा प्रणाली का अभिन्न अर्थ होना चाहिए, ताकि एलोपैथिक चिकित्सा शिक्षा के सभी छात्रों को आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी (आयुष), और उपाध्यक्ष की बुनियादी समझ होनी चाहिए। विपरीत।

 

• स्वास्थ्य देखभाल शिक्षा के सभी रूपों में निवारक स्वास्थ्य देखभाल और सामुदायिक चिकित्सा पर अधिक जोर दिया जाएगा।

 

• तकनीकी शिक्षा का लक्ष्य बहु-विषयक शिक्षण संस्थानों और कार्यक्रमों के भीतर पेश किया जाना है और अन्य विषयों के साथ गहराई से जुड़ने के अवसरों पर नए सिरे से ध्यान केंद्रित करना है।

 

• भारत को अत्याधुनिक क्षेत्रों में पेशेवरों को तैयार करने में भी अग्रणी भूमिका निभानी चाहिए, जैसे कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), 3-डी मशीनिंग, बड़े डेटा विश्लेषण और मशीन लर्निंग, जीनोमिक अध्ययन, जैव प्रौद्योगिकी, के अलावा नैनो टेक्नोलॉजी, न्यूरोसाइंस, स्वास्थ्य, पर्यावरण और टिकाऊ जीवन के लिए महत्वपूर्ण अनुप्रयोगों के साथ, जो युवाओं की रोजगार क्षमता बढ़ाने के लिए स्नातक शिक्षा में बुनी जाएगी।

Tuesday, July 28, 2020

व्यंग्य-2021 की सुहानी सुबह

        नए साल का पहला दिन। उत्सुकता वश नए साल की बधाईयों के आदान प्रदान के लिए आंख जल्दी खुल गई। अंगड़ाई लेने छत पर गए। आकाश शीशे  की तरह साफ और गहरा नीला। दूर हिमालय भी बर्फ से ढंका नजर आने लगा। दिमाग थोड़ा हिला जरुर .....पर थोड़ी देर में ही अपनी जगह आ गया। पक्षियों के चहचहाने की आवाजें आने लगीं और कुछ नए पंछी भी दिखने लगे। ट््रैफिक का कोई शोर नहीं । धर्मस्थलों के कानफाड़ू लाउड स्पीकर भी शांत थे।

    पार्क गए। लोग बिना मास्क के योग करते हा... हा ...ही ....ही... करते हुए इसके जनक का स्मरण करते दिखे। घर आते ही टी. वी. खोला। चैनल घुमाए। सबसे बड़ा आश्चर्य तब हुआ जब हर चैनल पर ब्रेकिंग न्यूज का फटट्ा् गायब पाया। किसी ने हमारे ज्ञान में वृद्धि नहीं की कि यह खबर सबसे पहले हमारे चैनल पर या एक्सक्लुसिव रिपोर्ट। कोई नया अति उत्साहित चैनल - ‘खबरें परसों तक’ भी  नहीं खुला जो आने वाली खबरों को तीन दिन पहले दिखा दे।

बारी बारी सभी के बटन दबाए। किसी बैंक का एटी एम नहीं उखड़ा। कोई बैंक का पैसा लेकर विदेश नहीं भागा उल्टे कई ऐसे सज्ज्न सरकार के मेहमान बन गए। अचानक हमारे खाते में 5 लाख की एंट्री फलैश करने लगी और हमारे चक्षु भी। गेैंग्स्टर यमलोक यात्रा पर डायरेक्ट एक्सपोर्ट कर दिए गए। वकील खाली -अदालतें तन्हा । निचले वर्ग के साथ साथ मध्यम वर्ग के मुंह पर भी ‘फील गुड’ की रेखाएं नजर आने लगीं क्योंकि यह वर्ग भी गरीबी रेखा के नीचे आ गया।किसी चैनल पर धार्मिक विवाद नहीं छिड़ा। पार्टी प्रवक्ता अपने अपने घरों में शांत बैठे नजर आए।

  विदेशी समाचारों में ट्र्म्प, जिनपिंग, इमरान, मोदी गलबहियां पाते , चाय पर चर्चा करते झूले झूलते नजर आए। सीमा पर कोई सैनिक नहीं था उल्टे सैनिक भंगड़ा पाते दिखे। कश्मीर में किसी एन्कांउटर की खबर नहीं थी। सेना के जवान आराम कर रहे थे। सत्गुरु , बेल पर रिहा होकर अपने पुराने धंधे पर लौट आए। कुछ नए संतों, प्रचारकांे, ज्योतिषियों  टेरो रीडर बनी नई नई मॉडलों ने अपने ही नए नए चैनल खोल लिए और धुआंधार मार्किटिंग कर रहे हैं।

             डाक्टरों ने धोखे से किडनी निकालना बंद कर दिया है। प्राईवेट अस्पतालों में अब मरे हुए मरीजों  को वेंटीलेटरों पर महीनों नहीं लटकाया जाता।  सरकारी नर्सों में सेवा भावना टपकने लगी है और वे एयर होस्टेस की तरह व्यवहार कर रही हैं । अब लोग डाक्टरों की पिटाई नहीं कर रहे। उन्हें समझ आ  गया है कि हर मौत डाक्टरों की गलती से नहीं होती कभी कभी यमराज के डिपार्टमेंट से भी हो जाती है।

        सरकारी कर्मचारी, बैंक कर्मी तमीज से पेश आ रहे हैं। चाय समोसे अपनी जेब से खिला रहे हैं। तहसीलदार और उसका स्टाफ बिना चूं चपड़ के 'निशुल्क' ,रजिस्ट्र्ी पर स्टैम्प और साइन मार रहा है। सबका हृदय परिवर्तन र्प्यावरण की तरह साफ हो गया है।

         थानों के कर्मी मक्खियां ढूंढ रहे हैं।ं न वाहन चोरी न कोई अन्य अपराध। वीमेन सेल के कर्मी ,सास -बहू ,टाइप सीरियल देखने में मस्त हैं। वित्त मंत्री के अनुसार चरमरायी अर्थव्यवस्था बुलेट ट्रेन से भी फास्ट दौड़ रही है। गृह मंत्री अपने गृह में आराम फरमा रहे हैं। प्रधान मंत्री नए नए देशों की खोज में निकले हुए  हैं। दूकानों में चीनी माल चमक रहा है। जो मजदूर नंगे पैर गावों को पैदल दौड़ रहे थे अब पैंट कोट टाई लगा कर ईंटे ढो रहे हैं। नए भारत का निर्माण हो रहा है। पंजाबी युवक बापू का खेत बिकवा के कनाडा नहीं भाग रहे न ही दारु और बंदूकों वाले गानों की वीडियो बना रहे हैं।

         सच जी।  ये सब हमने अपनी नंगी आखें से पर्सनली देखा। 

राम मंदिर के निर्माण के साथ ही रामराज्य का आधुनिक युग आरंभ हो गया। हम मारे खुशी के झूम उठे, उछलने कूदने लगे।

          तभी  पत्नी ने कर्कश ध्वनि में डांटा,‘ क्या सोते सोते लात घूंसे चलाए जा रहे हो? नए साल की खुशी में तुम्हारे नालायक दोस्तों ने ज्यादा उड़ेल दी क्या ?। उठो 9 बज गए हैं। वर्क फ्रॉम होम के दिन हवा हुए। 

बस जी ! हम अच्छे खासे  2021 में  प्रवेश करने ही वाले थे कि पत्नी की दहाड़ से , धाड़ से 2020 में आ गिरे।

चांद (हाइकु)

चांद (हाइकु)

      

     1

 

चांद चकोर 

टकटकी लगाये 

उमड़ प्यार

 

   2

 

शीत चांदनी 

पीपल के पतों से 

छाया बिखेरे 

 

    3

पूनम चांद

चौदहवीं का चांद 

सुगंधित आभा

 

हीरा सिंह कौशल गांव व डा महादेव सुंदरनगर मंडी हिमाचल प्रदेश

कब्र की मिट्टी

सर्दी और बढ़ गई थी। मैने लिहाफ़ खींच खुद को उसमे लपेट लिया कि आज देर तक सोऊंगी । वैसे भी रविवार है। मगर तभी फ़ोन की घंटी बजी और मुझे उठ के बैठ जाना पड़ा। सारी सर्दी अचानक गायब हो गई। मुझे जैकेट पहनने का भी ध्यान न रहा। सिर्फ शॉल लपेट निकल गई।
मुहिब के घर के बाहर मीडिया वालों की भीड़ जमा थी। मैं किसी तरह भीड़ को चीड़ते हुए घर मे घुसी तो सामने का दृश्य देख कर एक क्षण को सुन्न रह गई। मुहिब का पार्थिव शरीर फर्श पर पड़ा था। पुलिस आस पास छानबीन कर रही थी। कुछ क्षण बाद जब मैंने कमरे में नज़र दौड़ाई तो पूरा कमरा बिखरा पड़ा था। मुहिब के शरीर पर भी कई ज़ख्म के निशान थे। मैन उसके इकलौते नौकर रहमान( जो कोने में खड़ा सुबक रहा था) से पूछा कि ये सब कैसे हुआ। उसने बस इतना ही बताया कि वो सुबह की नमाज़ को उठा जब उसने साहब के कमरे की बत्ती जलती देखी और जब इधर आया तो ये सब... । क्या हुआ कैसे हुआ कुछ नही मालूम।
मुहिब की मृत्यु के चार दिन हो गए थे। मगर कुछ पता न चला था कि वह इसके मौत के पीछे क्या रहस्य है। मैंने भी चार दिन से अपना सारा काम छोड़ा हुआ था। आज दफ्तर से कॉल आया कि कोई महत्वपूर्ण ईमेल आया है तो कंप्यूटर खोला। इनबॉक्स में मेल न पाकर मैने स्पैम खोला। दफ्तर का मेल देखते समय मेरी दृष्टि मुहिब के मेल पर पड़ी जो उसकी मौत की रात की थी। मैने जल्दी से मेल खोला और उसके साथ ही सारे राज़ खुल गए। सामने मुहिब का लंबा से पत्र था।
" ज़िन्दगी ने बड़े अच्छे से मेरा हिसाब किया"
"कि अपनी हया ढकने को मुझे बेनकाब किया"
वो अचानक मेरे सामने आ खड़ी हुई है 4 सालों बाद। मगर मैं आगे बढ़ कर उसे गले भी नहीं लगा सका। वो ही दौड़ कर मुझसे लिपट गई और भीगे लहज़े में कहा- कहाँ खो गए थे मुहिब? क्या मुहब्बत जिस्मों के हिसार की मोहताज होती है? मैं तो सारी जिंदगी तुम्हारे शानों पर सर रख के गुज़ार दूँ। मुझे उन चीज़ों की तलब नही तुम साथ रहो यही काफी है। और उसने अपना सर मेरे कंधों पर रख दिया। लेकिन मैं उसे अपने आगोश में न समेट सका। कुछ था जो मुझे रोक रहा था। 4 साल पहले भी तो उस रात वो मेरे इतने ही क़रीब थी। कतरा कतरा मुझमे उतरने को तैयार। मगर मैं सिर्फ उसकी पेशानी को बोशा दे कर रह गया। उसके होंठो तक पहुंचने की हिम्मत न हो सकी थी। उसके नाज़ुक होंठो ने मेरे लबों को छुआ मगर मैं झटके में से उसे खुद से दूर कर के कमरे से बाहर निकल गया था। वो हमारी सगाई की रात थी। मुझे कमरे से निकलते हुए उसकी भाभी ने देख लिया और उनके मुखबिर मन ने हमदोनों के बीच की बातें भी सुन ली। जब मैं ज़ेबा से साफ़ लफ़्ज़ों में कह रहा था कि ये सब मुझसे न हो पायेगा। भाभी ने ये बात उसके तीनों भाइयों को बता दी और अगले दिन हमारी सगाई टूट गई। ज़ेबा तो हर हाल में मेरा साथ देना चाहती थी । कहती थी उसने तो मुहब्बत न करने की ठानी थी । आज तक कोई उसके दिल को छू भी नही पाया था मगर मुझसे उसे इश्क़ हो गया है। मेंरी खामोश पर्सनालिटी उसे भा गई थी। मग़र मुझे भी ये रिश्ता उसके ऊपर ज़्यादती लग रही थी। इसलिए उसे बिना बताया मैंने शहर छोड़ दिया। अब कलकत्ता मेरा नया ठिकाना था। ज़ेबा कि याद यहाँ भी मेरा साथ नही छोड़ रही थी इसलिए मैंने ख़ुद को उसके लायक बनाने को सोचा। फिर मेरी रातें कलकत्ते की बदनाम गली के लाल कोठी में गुज़रने लगी। और नतीजा ये हुआ बिना लाल कोठी पर जाय अब मुझे नींद नही आती थी। वो दवा जो मैंने इलाज के लिए लेनी शुरू कि थी मेरी लत बन गई। अब जब के मैं ज़ेबा के पास जाने लायक बन गया था मेरे कदम जाने क्यों उसकी ओर जाने को नही उठ रहे थे। एक बेवफाई का एहसास अंदर ही अंदर मुझे मार रही थी । फिर लाल कोठी की लत ने मुझे अपना गुलाम बना लिया था। क्या इस लत के साथ मैं ज़ेबा की ज़िन्दगी में शामिल हो सकता था? मेरे ज़मीर ने इजाज़त नही दी और मैन खुद को रोक लिया। मगर मेरी मोहब्बत एक तरफ़ा नही थी। ज़ेबा ने मुझे ढूंढ ही लिया। मैं लहरो में उसका अक्स देख रहा था जब वो हक़ीक़त बन कर सामने आ गई।
पिछले 7 दिनों से वो मुझसे मिलने की लगातार कोशीश कर रही है । मगर अब मुझमे उससे नज़रे मिलने की हिम्मत कहाँ। अगर वो मुझे भूल गई होती तो मैं अपनी गलती के साथ जी लेता मगर उसकी पाकीज़ा मुहब्बत ने मुझे और गुनाहगार बना दिया है। मगर अपने इस सड़े गले वजूद को उसके मुहब्बत के पशमिने में ढकना नही चाहता।मेरी वजूद को तो कीड़े लग गए हैं। जो उसकी मुहब्बत की ताब से अंदर से बाहर निकल आये हैं। हर वक़्त ये मेरे जिस्म से चिपके रहते हैं। मेरे पूरे जिस्म पर रेंग रहे हैं। रोज़ इनकी तादाद बढ़ती जा रही है। हर सिम्त कीड़े ही कीड़े हैं। अब तो समझ नही आता कि मैं इंसान हूँ या महज़ नाली का कीड़ा। मैं इन कीड़ों के साथ नही जी सकता। मैं इन गंदे कीड़ों को उसके खूबसूरत दामन में नही डाल सकता। इसलिए मेरा जाना ही बेहतर है। हाँ मेरा जाना ही बेहतर है।
उसने अपना खत खत्म किया और नीचे एक निवेदन की कि ज़ेबा को उसके घिनोने शक्ल के बारे में कुछ न बताऊँ। बस उस तक इतना पैग़ाम पहुँचा दूँ कि " मैं इतना मजबूर हूँ के चाह कर भी उसका नही हो सकता। वो मुझसे बेपनाह मुहब्बत करती है मेरी मज़बूरी ज़रूर समझ जायगी।"
मुहिब की मृत्यु के पाँचवे दिन। सुबह के समय एक औरत मुझसे मिलने आई। सफेद दुपट्टे में वो ओस की बूंद सी उज्जवल लग रही थी। मगर मुख पर उदासी की मलिन छाया थी। मलिन मुस्कान के साथ उसने जो बात कही उससे मेरा पूरा शरीर कांप गया। हाथों में थमी चाय की प्याली झलक गई।
" मुहिब काल शाम मिले थें मुझसे। कहा आपके पास उनकी ग़ज़लों की एक डायरी है जो उन्होंने मेरे लिए लिखी थी आपसे ले लूं।"
काल शाम!! कहाँ है वो?? मैन आश्चर्य से पूछा
यही तो मैं आपसे पूछना चाहती हूँ। आप उनकी क़रीबी दोस्त हैं गर आपको कुछ इल्म हो तो बताइए। उनके घर का पता तो दीजिये।पिछले चार दिनों से रोज़ मुझसे मिल रहे हैं मगर अपने घर नही ले जाते। जब भी पूछती हैं उठ कर चले जाते हैं। मैं उन्हें फिर से खोना नही चाहती।
झनाक। मेरे हाथों से चाय की प्याली छूट के गिर पड़ी । उसके क़ब्र पर मिट्टी मैन भी तो डाली थी। 


लघुकथा - दुरुपयोग

          पंडित हरि किशन जी घर-घर पूजा-पाठ कर अपने और अपने परिवार का लालन-पालन बड़ी मुश्किलों से कर पाते थे।कभी-कभी किसी-किसी घर से अच्छी दक्षिणा  मिलने पर घर पर अच्छा खाना भी बन जाता था।लेकिन कोरोना बीमारी की इन खतरनाक परिस्थितियों में धीरे-धीरे उनके काम में बहुत ही कमी आ गई।आजकल कोई भी अपने घर मे किसी व्यक्ति का आना पसंद नही कर रहा था तो पूजापाठ ही कौन कराएगा।अचानक एक दिन उनके किसी जानने वाले ने किसी पुलिसकर्मी को उनके पास भेजा।पुलिस वाले व्यक्ति का नाम जगदीश्वर था।उसने पंडित जी बोला पंडित जी कोई ऐसा उपाय बताएं जिससे इस कोरोना काल मे हमारा परिवार इस बीमारी से दूर रहें।पंडित जी मेरा कुछ काम ही ऐसा है कि हम लोग इस दौर में भी घर मे नही बैठ सकते।हमेशा डर लगा रहता है कि कोरोना ना हो जाये।


          बुरे हालात से गुजर रहे पंडित जी ने फौरन पुलिस वाले भैया को हामी भर दी।उन्होंने बताया कि उन्हें कुछ मंत्रों का जाप करना होगा।जिससे उनके घर से इस बीमारी को दूर भगा दिया जाएगा।जिसके लिए उन्हें पंडित जी को ₹25000 देने होंगे।जगदीश्वर जी उनकी बात सुनकर सहमत हो गए और उन्होंने मंत्र उच्चारण के लिए पंडित जी को ₹25000 देकर हामी भर दी।पता नहीं इसे पंडित जी की घर की परिस्थिति कहेंगे या उनके पंडिताई का दुरुपयोग,लेकिन उन्होंने कोरोना काल में अपने परिवार का लालन-पालन करने के लिए जैसे तैसे पैसा कमा ही लिए।जगदीश्वर जी को पूजा करा कर काफी खुशी थी।सुबह तैयार होकर वो अपनी नौकरी के लिए निकल पड़े।


          अब जगदीश्वर जी ₹25000 दिए हैं तो किसी ना किसी से तो उन्हें भी ये निकालने ही थे।उन्होंने आज अपना कार्य स्थल शहर के सबसे व्यस्थ चौराहे को बनाया।चौराहे पर खड़े होकर उन्होंने कुछ गाड़ी वालों को और मोटरसाइकिल वालों को रोक-रोक कर और उन्हें चालान काटने का डर दिखा कर लगभग कुछ ही घंटों में अपने घाटे की पूर्ति कर ली और शायद कुछ ज्यादा ही पैसा लोगो से ले ही लिया।हालांकि इसमें काफी हद तक लोगो का ट्रैफिक के नियमो का ना मानने का हाथ भी था।जगदीश्वर जी ने अपने पद का प्रयोग करते हुए अपने पैसे की पूर्ति कर ही ली।पंडित जी और जगदीश्वर जी दोनों ने अपने पदों का उपयोग करते हुए अपने लिए पैसों की व्यवस्था कर ही ली।


          खैर चालान की चोट खाये हुए व्यक्तियों में यादव जी भी थे।जिन्हें कार के पेपर ना रखने के कारण और चलती गाड़ी में शराब का सेवन करने के कारण ₹5000 का जुर्माना देना पड़ा।वो बहुत ही परेशान थे।लेकिन कोरोना काल मे 5000 रुपये का घाटा उन्हें अपने व्यवसाय से पूरा करना ही था।यादव जी एक हलवाई है।अपने नुकसान से परेशान होकर यादव जी ने मिठाई बनाने में कुछ ज्यादा ही मिलावट कर दी।आज पंडित हरि किशन जी ने पुलिस वाले भैया से पैसे कमाकर सोचा कि चलो आज बच्चो के लिए मिठाई ले लूँ।उन्होंने यादव जी की दुकान से मिठाई ली और घर जाते हुए कुछ मिठाई प्रसाद के रूप में जगदीश्वर जी को दे दी और बाकी मिठाई अपने बच्चों को खाने के लिए दे दी।मिठाई खाने के बाद यादव जी के बच्चे बीमार हो गए और साथ-साथ जगदीश्वर जी का परिवार भी बीमार हो गया।गुस्से से भरे हुए जगदीश्वर जी ने यादव हलवाई को गिरफ्तार कर लिया।हालांकि बाद में वो रिश्वत देकर छूट भी गए।


          *यहाँ शीख देने वाली बात यही है कि यहाँ सभी व्यक्तियों ने अपने-अपने कार्यो में किसी ना किसी तरीके से दूसरे व्यक्ति को दुख देकर अपने लिए पैसों की व्यवस्था की लेकिन अंत मे गलत तरीके से कमाए हुए रुपये को अपने आप को बचाने के लिए गवाना भी पड़ गया।अगर सभी ने अपने कामो को सही तरह से किया होता तो किसी को भी परेशान नही होना पड़ता।*


 


नीरज त्यागी
ग़ाज़ियाबाद ( उत्तर प्रदेश ).


Saturday, July 25, 2020

मैं किसान हूँ, चैन से कहाँ सोता हूँ...  देश में किसानों की वर्तमान परिस्थिति का विश्लेषण

मैं किसान हूँ, चैन से कहाँ सोता हूँ...  


डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा उरतृप्त


हम अनाज तो हर दिन पकाकर खाते हैं। क्या कभी मुट्ठी भर अनाज सूँघने का प्रयास किया है? फुर्सत मिले तो एक बार ही सही उसकी गंध सूँघने का प्रयास अवश्य करें। किसान के अनाज में दशाब्दियों से छल-कपट का शिकार हो रहे उनके पसीने की गंध आएगी। पीढ़ी-दर-पीढ़ी चले आ रहे पिछड़ेपन की गंध बस्साएगी। पोषक तत्त्वों की गिनती करते समय कड़ी धूप में कमरतोड़ मेहनत करने वाले किसान की एकबारगी की याद दिल दहला देगी। असंख्य लीटर पसीना बहाकर खेतों की सिंचाई करने वाले भोले-भाले किसान की चमड़ी धूप में जलकर काली पड़ जाती है। विज्ञान की पुस्तकों में लिखा होता है कि ओजोन की परत पराबैंगनी किरणों से बचाती हैं, किंतु वहीं ये पुस्तकें पाठ्यक्रम-दर-पाठ्यक्रम नदारद हो रहे कृषि संबंधी यह बात बताना भूल जाती हैं कि किसानों की झुर्राई-मुरझाई काली चमड़ी से ढकी इस दुनिया को भूखों मरने से बचाती है।


गाँवों में दूर-दूर तक फैली हरियाली की चादर के रेशे छिद्रान्वेषित होने लगे हैं। दिन-रात मेहनत करने वाले किसान के परिवार में नाच रही दरिद्रता भारत भाग्य विधाता से मुँह बाए प्रश्न करने पर मजबूर है। बार-बार पूछती है कि क्या अनाज पैदा करने वाला हमेशा दो जून की रोटी, कपड़ों के लिए तरसते रहेंगे? क्या उनके अनाज को खरीदने और बेचने वाले बिचौलिए तथा व्यापरी किसान को छल कपट से धोखा देते रहेंगे? खेतों की मिट्टी से सने हाथों को देखकर स्वयं किसानों को घिन्न आने लगी है। हल, खुरपी, हँसिए उसे चिढ़ाने लगे हैं। टुकड़ों-टुकड़ों में बंटी जिंदगी कभी पूरी न हो सकी। त्यौहारों-उत्सवों, शोक के दिनों में भी अपने खेतों को न भूलने वाले किसान जिसकी चिंता में डूबे रहते हैं वही एक दिन उन्हें खा जाती है। इनकी दशा ऐसी है कि आँखों में आँसू हैं पर गिर नहीं रहे हैं। बादल घेरे हुए हैं लेकिन बरस नहीं रहे हैं। उन्होंने लोगों और सरकारों को कोसना तो कब का छोड़ दिया है। अब ये अपनी फूटी किस्मत पर माथा पीट रहे हैं। अब वह दिन दूर नहीं जब खेती के दिन लद जायेंगे और कहते फिरेंगे कि कभी हाड़-मांस के किसान खेती भी किया करते थे। खेती तो खेती होती है। यह अगर कोई इमारत होती तो कब की यूनेस्को की धरोहर सूची में शामिल हो जाती। शुक्र है कि यह कला है। उससे भी जरूरी भूख मिटाने का एक मात्र उपाय। इनसे इनकी पहचान मत छीनिए।


नब्बे के दशक में वैश्वीकरण के दौर के बाद किसानों को राजनीतिक एजेंडे में तो फंसाकर रखा गया, लेकिन विकास के एजेंडे से उन्हें बाहर कर दिया गया। बार-बार कृषकों के हितों की दुहाई दी गईं। उनके नाम पर समितियों का गठन हुआ। उन्हें सब्सिडी दी गईं। उनके कर्ज़ माफ़ किए गए, लेकिन किसान की आय कैसे बढ़ाई जाए, यह सुनिश्चित नहीं किया गया! बल्कि शासन-प्रशासन ने अन्नदाताओं की इकलौती निधि ‘आत्मसम्मान’ को रौंद कर उन्हें जान देने के लिए मजबूर कर दिया। ये आत्महत्याएँ नहीं बल्कि संस्थागत हत्याएँ हैं। इनके लिए राज्य और उसके विभिन्न निकाय जिम्मेदार हैं। एक कहावत हैं – “उत्तम करे कृषि, मध्यम करे व्यापार और सबसे छोटे करे नौकरी” ऐसा इसलिए कहा गया है क्योकि कृषि करने वाले लोग प्रकृति के सबसे करीब होते हैं और जो प्रकृति के करीब हो वह तो ईश्वर के करीब होता है। किंतु अब यह कथन उलटता जा रहा है। समय की दरकार है कि हम किसान को आश्वस्त करें। उन्हें भरोसा दिलाए कि अभी भी भारत गाँवों का देश है। स्मार्ट सिटी जब बनेंगे तब बनेंगे पहले यह देश सबका पेट भरने वाले को यह बताए कि सूखा, ऋण, बाढ़ के समय में उनके साथ खड़ा है। बैंकों में चक्कर लगाने पर भी लोन न मिलने की स्थिति में जिन साहूकारों से कर्ज लेते हैं, उनके चंगुल से बचाने की जिम्मेदारी हमारी है। उन्हें यह भरोसा दिलाना होगा कि फसल बीमा केवल चुनिंदा लोगों को नहीं मिलता, बल्कि सभी लोगों को मिलता है। उन्हें यह जताना होगा कि आज भी यह देश नाम के नहीं काम के किसान के साथ खड़ा है। नीतियों के बांझपन से मिट्टी की उर्वरा समाप्त करने की साजिशों को मुंहतोड़ जवाब देना होगा। यह देश पहले भी सोना-चाँदी पैदा करता था, पैदा करता है और पैदा करता रहेगा। किसान की हथेलियों ने हल, खुरपी, हँसिए पकड़कर अपनी रेखाएँ गंवाई अवश्य हैं, किंतु देश की हथेली की रेखाओं को कभी मिटने नहीं दिया। यही वह जज्बा है जिसके आगे देश नतमस्तक रहता है। किसान बेसहारा, मजबूर, बेबस, गरीब, लाचार का सूचक नहीं हमारे देश की शान है। इस शान के लिए जिस तरह सेना के जवानों के साथ हम व्यवहार करते हैं, ठीक उसी तरह से उनके साथ व्यवहार करने की आवश्यकता है। यह जिस दिन होगा उसी दिन जय जवान जय किसान का नारा सफल होगा। 



श्री कैलाशचन्द्र पन्त के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर रचित पुस्तक का लोकार्पण

भोपाल । मध्यप्रदेश राष्ट्रभाषा प्रचार समिति के मंत्री संचालक एवं प्रखर हिंदी सेवी श्री कैलाशचन्द्र पन्त के 85 वें जन्म दिवस के अवसर पर डॉ. अर्चना निगम द्वारा रचित पुस्तक का  ई-संस्करण  "संघर्ष से विजयपथ की ओर" का लोकार्पण  सीडी  के रूप में उनके निवास पर किया गया। श्री पंत के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर लिखी गई इस पुस्तक की भूमिका रबिन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय के कुलाधिपति एवं प्रसिद्ध रचनाधर्मी  श्री संतोष चौबे ने लिखी है। इस पुस्तक में श्री पन्त के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर विस्तार से प्रकाश डाला गया है| श्री पन्त द्वारा पत्रकारिता, समाजसेवा, भाषा उत्थान के क्षेत्र में हासिल उप्लाब्धियों को इस पुस्तक में विशेष रूप से रेखांकित किया गया है|


इस अवसर पर वरिष्ठ लेखक तथा पत्रकार श्री युगेश शर्मा तथा हिंदी भवन के निदेशक डॉ. जवाहर कर्नावट ने श्री पंत को शाल भेंटकर  तथा प्रतीक  चिन्ह भेंट कर अभिनंदन किया। इस मौके पर श्रीमती किरण पन्त भी विशेष रूप से उपस्थित रही| लॉकडाउन  की परिस्थितियों में इस पुस्तक को तैयार करने में श्रीमती कांता राय की विशेष भूमिका रही।


(कान्ता रॉय)


प्रशासनिक अधिकारी 


हिन्दी भवन, भोपाल 



दिहाड़ी मज़दूर का राशन

दिहाड़ी मज़दूर का राशन


 


श्मशान घर के पास


और उन तमाम जगहों पर


जो खाली थीं


विवादित ज़मीनें


या बंद हो गए


सरकारी दफ्तर


पुलों के नीचे


वे बैठे रहे लगभग


छिपकर


कि खदेड़ न दे


उन्हें फिर


सत्ता की पुलिस


 


वे बैठे रहे भूखे


एक के बाद दूसरे दिन चुपचाप


 


आखिर, उनके लिए


राशन लेकर


क्यों नहीं आयी


विपक्ष की एक भी पार्टी?


 


यह सम्पूर्ण ट्विटर पर


सरकार की लगातार


हेकड़ी बजाने से


बेहतर काम होता


 


क्या उन्हें बदलनी नहीं चाहिए


अपनी कैंपेन स्ट्रेटेजी?


 


 


कल के लिए


 


बिना घोषित किये ही


तुम्हें यतीम


उन्होंने सच बना दिया है


यतीम तुम्हें


 


तुम उन्हें मानना बंद कर दो


माई बाप अपना


छोड़ दिया है


तुमने पुकारना उन्हें


साहेब और हुज़ूर


और तुम्हें पूरा हक़ है


एक व्यवस्था की अपेक्षा का


लेकिन अनुपस्थिति में उसकी


और यों भी


 


खुद को तैयार करो


अचानक की एक ऐसी


दुनिया के लिए


जो सच कल्पनाओं से परे है


और हो सकती है


प्रकट कभी भी


 


जिसमें नहीं होंगे रोज़गार के कोई साधन


युद्ध बंदी होगी


एक ऐसी महामारी


जिसका इलाज केवल पैसों से


नहीं हो सकेगा


 


यह दुनिया भर के नेताओं की


साजिशों की दुनिया है


मज़दूरों


उन्हें बनानी थीं कुछ


नीतियां, पर्यावरण सम्बन्धी


लेकिन, यह उनके अभिवादन


आलिंगन, हैंडशेक और नमस्कार के बाद


अस्त्र प्रदर्शन की दुनिया है


और तुम बिल्कुल अपने भरोसे


जो भी करो


आज के लिए नहीं


अपने कल के लिए करो!


 


कल के लिए दाना पानी


कल तुम्हारे बच्चे का दिन


कल की तुम्हारी उम्मीदों की दुनिया


और कुछ योजनाएं


बिल्कुल तुम्हारी अपनी!


ये तुम्हें ही करना है


मज़दूरों!


तुम अगर इतनी बड़ी


अट्टालिकाएं बना सकते हो


 


तो ज़रूर बना सकते हो


अपना आज ही नहीं


कल भी!


 


------------ पंखुरी सिन्हा


 


 


 


 


 


 


 


काश !

काश !


काश! मेरी जुबान की
कड़वाहट के पीछे
तुम मेरे हृदय की मिठास को
समझ पाते ।


काश! मेरे मुस्काते
चेहरे के पीछे
तुम मेरे हृदय में दहकती
पीड़ा को समझ पाते।


काश ! मेरे बहते हुए
अश्कों के पीछे
तुम मेरे हृदय में बसी
मेरी कोमल भावनाओं को
समझ पाते।


काश! मेरे खिलखिलाते
चेहरे के पीछे
तुम मेरे अंतर्मन की
चीखती चिल्लाहट को
समझ पाते।


राजीव डोगरा 'विमल'
कांगड़ा हिमाचल प्रदेश (युवा कवि लेखक)
(भाषा अध्यापक)
गवर्नमेंट हाई स्कूल,ठाकुरद्वारा।



Monday, July 20, 2020

हिंदी में वेबिनार की क्या दरकार  विभिन्न विद्वानों के विचार। 

प्रो. कृष्ण कुमार गोस्वामी - वरिष्ठ भाषाविद, सदस्य - केंद्रीय हिंदी समिति  -  कुछ लोग वेब-संगोष्ठी की वकालत कर रहे हैं। लेकिन उन्हें मालूम होना चाहिए कि वेब भी एलेक्ट्रोनिक के अंतर्गत आता है। हमें अंशी को अपनाना चाहिए न कि अंश को, ताकि भविष्य में कोई कठिनाई या उलझन न आ पाए।  इस प्रकार आज के तकनीकी युग में इलेक्ट्रोनिक और कंप्यूटर का बहुत बड़ा योगदान है। इसी के परिप्रेक्ष्य में भविष्य में और भी कई तकनीकी उपकरणों का विकास होगा। 'इलेक्ट्रोनिक' के लिए कुछ लोगों ने हिन्दी में 'वैद्योतिकी' शब्द रखा है, जो जटिल और कठिन होने के कारण अभी तक प्रचलित नहीं हो पाया। वास्तव में  तकनीकी शब्दों के निर्माण में सरलता, सहजता, सुगमता, स्वाभाविकता और संक्षिप्तता पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता पड़ती है। इस लिए "ई-संगोष्ठी" शब्द वेबिनार के लिए उचित और उपयुक्त लगता है। इसके उच्चारण में सरलता और सहजता है तथा प्रयोग में संक्षिप्तता एवं सुगमता है। 'ई-संगोष्ठी' शब्द का प्रचलन पहले था, किंतु बहुत कम था। इस करोना वायरस के 


कारण तकनीकी विशेषज्ञों द्वारा वेबिनार शब्द का प्रयोग होने लगा और हिन्दी के विद्वानों ने भी इसे अपना लिया। पता नहीं हिन्दी विशेषज्ञों ने इस शब्द का प्रयोग क्यों नहीं किया। वस्तुत: शब्दों का प्रचलन उनके प्रयोग से ही होता है। इस लिए मेरे विचार में 'ई-संगोष्ठी' शब्द का प्रयोग करना असमीचीन नहीं होगा।


 


श्रीमती लीना मेहंदले सेवानिवृत्त भा.प्र.से. अधिकारी, पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त, गोवा तथा सक्रिय भारतीय भाषा सेवी -  ई-संगोष्ठी सहमत ।


  


प्रो. रंजना  अरगडे , पूर्व  निदेशक, स्कुल ऑफ लैंग्वेजिज़ तथा पूर्व हिंदी विभागाध्यक्ष, गुजरात विद्यापीठ -  ई संगोष्ठी से पूर्णत: सहमत 


 


डॉ. एस.पी. दुबे, पूर्व अध्यक्ष, महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी तथा पूर्व अध्यक्ष मुंबई विश्वविद्यालय, बोर्ड ऑफ स्टडीज -  आजकल वर्चुअल संगोष्ठियों का आयोजन बहुत जोर पर है,जिसे वेबिनार का नाम दिया जा रहा है। यह नाम प्रचलन में बड़ी तेजी से उभरा और इसकी स्वीकार्यता भी उतनी ही तीव्र गति से हुई। लेकिन अंग्रेजी के दो शब्दों से मिल कर बने इस शब्द के बजाय हिंदी में इसे 'ई संगोष्ठी' कहा जाना अधिक उपयुक्त और तर्कसंगत लगता है। मेरे विचार से इलेक्ट्रानिक और आभासी साधनों से आयोजित संगोष्ठियों के लिए हिंदी में 'ई संगोष्ठी 'का प्रचलन ही उचित है।


 


प्रो. अमरनाथ, वरिष्ठ भारतीय भाषा सेवी तथा पूर्व विभागाध्यक्ष, कोलकाता विश्ववि्यालय -   'ई-संगोष्ठी'  सही शब्द है। अवश्य चलेगा।  


 


प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा, आचार्य एवं अध्यक्ष , हिंदी विभाग , विक्रम विश्वविद्यालय,उज्जैन - 'वेबिनार' शब्द 'वेब' और 'सेमिनार' का मिश्रण है। वस्तुतः  वेबिनार इंटरनेट पर आयोजित एक कार्यक्रम है, जहाँ विशेष रूप  से ऑनलाइन दर्शकों द्वारा भाग लिया जाता है। यह इसे एक वेबकास्ट से अलग करता है, जिसमें भौतिक दर्शकों की उपस्थिति भी शामिल है।  अंग्रेजी में वेबिनार के विकल्प के रूप में उपयोग किए जाने वाले अन्य शब्द वेब इवेंट, ऑनलाइन सेमिनार, वेब लेक्चर और वर्चुअल इवेंट हैं। हिंदी में वेबिनार के पर्याय के रूप में वेब संगोष्ठी, ऑनलाइन संगोष्ठी, वेब व्याख्यान आदि प्रचलित हैं। अतः मेरा निष्कर्ष है कि वेबिनार को वेब संगोष्ठी कहना उचित है।


 


प्रो.मंगला रानी,प्रोफेसर, हिंदी विभाग, पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय, पटना- वेबिनार के लिये ई-संगोष्ठी उत्तम विकल्प है। वर्चुअल क्लास को गूगल आभासी वर्ग कहता है किंतु वह आभासी कतई नहीं है, बिल्कुल समक्ष है। मुझे इसे गृह - कक्षा अथवा घरेलू - वर्ग कहना ज्यादा उचित लगता है। ई-मैगजिन को ई-पत्रिका कहना सुविधाजनक एवं स्पष्ट है। 


 


प्रोफेसर विष्णु सरवदे, केंद्रीय विश्वविद्यालय, हैदराबाद - वेबिनार की जगह ई-संगोष्ठी यह शब्द उपयुक्त है।  यह शब्द ठीक लगता है। यह हिन्दी का अपना शब्द होगा। इस शब्द का प्रयोग हम कर रहै हैं।


 


अनिल गोरे, गणित शिक्षक एवं विख्यात मराठी-सेवी-  ई उधार का भी क्यों लेना ?  वी-संगोष्ठी संबोधन से क्या आपत्ति है  ?  उधार ज्यादा हो या थोडा ! उधार तो उधार होता है !


 


प्रो. सतीश पांडेय, डॉ सतीश पांडेय, पूर्व हिंदी विभागाध्यक्ष, के. जे. सोमैया कला व वाणिज्य स्वायत्त महाविद्यालय मुंबई।संपादक समीचीन -  'वेबिनार' के हिन्दी विकल्प के संदर्भ में विगत कई दिनों से चल रही चर्चा और विमर्श मैं बड़े गौर से देख रहा था। मुझे लगता है कि हिंदी में पहले ही हमने 'ईमेल' शब्द को स्वीकार कर लिया है। थोड़ा आसान लगने वाले विकल्प जल्दी प्रचलन में आ जाते हैं। यह सर्व विदित है कि वे ही शब्द आगे स्वीकृत होते हैं जो  लोगों द्वारा व्यवहार में लाए जाते हैं अन्यथा वे मात्र शब्दकोशों तक सीमित रह जाते हैं। इस दृष्टि से ई-मेल की तर्ज पर ई-संगोष्ठी अधिक व्यापकता लिए हुए उचित विकल्प लगता है जो ग्राह्य हो सकता है।


 


विनोद संदलेश, संयुक्त निदेशक, केंद्रीय अनुवाद ब्यूरो, राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार - बात कहने और सुनने की नहीं है। जब आवश्यकता होने पर आगत यानि उधार के शब्द  एक भाषिक समाज में किसी विशेष कार्यसिद्धि के लिए प्रवेश करते हैं तो प्रयोक्ता उनके कई रूप प्रयोग में लाने का प्रयास करते हैं। यह उस भाषिक समाज अथवा प्रयोक्ता वर्ग की आवश्यकता भी है। अस्तु वेबिनार भी चलेगा, ई संगोष्ठी भी चलेगा और ऑनलाइन भी प्रयोग में आएगा। अब प्रश्न है कोई शब्द कितनी देर तक चलेगा और कोई शब्द उस भाषा में कब पक्का स्थान बनाएगा। मेरे अनुभव कहता है जिस एक विचार से  उस भाषा में एक ही प्रकार के शब्द युग्म बनेगें या ऐसे शब्द युग्म बनने की उर्वरता होगी वही शब्द स्थायित्व ग्रहण कर लेगा जैसे ई गोष्ठी, ई संगोष्ठी, ई सरल वाक्यकोश, ई महाशब्द कोश, ई शिक्षण, ई प्रशिक्षण आदि आदि।।। अस्तु ई संगोष्ठी शब्द को निरंतर प्रयोग में लाये जाने की आवश्यकता है।।। सभी इस प्रयास में लगे रहीं बाकी भाषिक समाज पर छोड़ दें । यदि दम होगा तो स्थायी हो जाएगा।


 


रुद्रनाथ मिश्रउप महाप्रबंधक (राजभाषा) - एनएमडीसी  लिमिटेड -  महोदयमैं समझता हूं कि अभी उपयुक्त समय है जब वेबिनार का हिंदी पर्याय प्रचलित कर दिया जाए वरना "प्रचलित श्ब्द अपनाओ “ का चोला ओढकर वास्तव में अंग्रेजी शब्द अपनाओ का कार्य  करने वाले तथाकथित सरलतावादी वेबिनार को इतना प्रचलित कर देंगे कि इसका हिंदी  समतुल्य  ढूंढने  का उपक्रम  कोई  नहीं  करेगा। चूंकि  संगोष्ठी इलेक्ट्रॉनिक  माध्यम  से  की  जा जाती है अत: इसे ई-संगोष्ठी जैसा सटीक शब्द दिया जाना उचित  रहेगा।


 


प्रदीप शर्मा,  दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा,चेन्नई - हम दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा,चेन्नई भी 'ई-संगोष्ठी' शब्द के लिए पूरी तरह सहमत हैं और भविष्य में इसी शब्द का ही प्रयोग करेंगे|   


 


डॉ. आर.वी. सिंह, उप महाप्रबंधक राजभाषा, सिडबी -  आपका प्रयास स्तुत्य है। अ कॉम्प्रीहेन्सिव इङ्गलिश-हिन्दी डिक्शनरी में डॉ. रघुवीर ने कितने नये-नये शब्द सुझाए। भूमिका में उन शब्दों का औचित्य भी प्रतिपादित किया। नियोजित भाषा-विकास की प्रक्रिया में नये शब्द बनाकर प्रस्तुत तो किए जा सकते हैं, किन्तु उन्हें चलाने न चलाने का काम प्रयोक्ता करेंगे। ई-संगोष्ठी शब्द बड़ा टकसाली है। इसे चलना चाहिए। हमारे भोजपुरी-अवधी क्षेत्रों में तो ई-संगोष्ठी (या इसंगोष्ठी) को बिलकुल धड़ल्ले से चलना चाहिए। आप इसे बार-बार लोगों के सामने लाइए। इतनी बार कि यह लोगों की जबान पर चढ़ जाए। भाषा तो चलती का नाम गाड़ी है। एक बार चल जाए तो कोई नहीं पूछता कि यह शब्द आया कहाँ से। व्युत्पत्ति तो शोध की विषयवस्तु बन जाती है।


इसंगोष्ठी बड़ा और उच्चारण में कठिन लगे तो इगोष्ठी कहिए। प्रयोग करने से डरना नहीं चाहिए। कोई क्या कहेगा, यह सोचने की भी ज़रूरत नहीं। आपको जो कहना है कहिए। शायद उसी में आपकी महारत हो। हम तो अपना काम करेंगे। आज अंग्रेजी पूरी दुनिया पर छा गयी है, तो उसका सबसे बड़ा कारण है उसमें अनुसंधान और विकास के लिए उत्कंठा और हर भाषित तत्व को सहज ही आत्मसात करने की उसकी ललक। हिन्दी में भी अनुसंधान व विकास निरन्तर चलते रहना चाहिए।


 


डॉ जवाहर कर्नावट, निदेशक, हिंदी भवन, भोपाल - ई-संगोष्ठी  संकुचित अर्थ प्रदान  करता है जब कि वेब संगोष्ठी  व्यापकता लिए हुए है. ' ई ' इलेक्ट्रॉनिक प्रक्रिया  का सूचक है. हम ई-रिक्शा, ई-पुस्तक, ई-पास आदि का प्र्योग करते रहे है किंतु इनमेें कहीं भी ऑनलाइन प्रक्रिया नहीं है, अत: मुझे  वेब संगोष्ठी  अधिक  उपयुक्त प्रतीत होता है.।


 


 डॉ राजेश कुमार वर्मा,  शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास इंदौर संभाग प्रमुख - सादर नमस्कार, शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास इंदौर महानगर इकाई ने यह तय किया है कि अब हमारी जितनी भी ऑनलाइन संगोष्ठियाँ या कार्यशाला हो रही हैं, उनमें हम केवल ई- संगोष्ठी या ई-कार्यशाला शब्द का ही प्रयोग कर रहे हैं और मैं चाहूँगा कि पूरे देश में यह अभियान आगे बढ़े और इस अभियान के तहत हर व्यक्ति, हर संस्था, हर संगठन, जो इस तरह के कार्य में लगा हुआ है, वह अपने हर कार्य को ई- संगोष्ठी को ई-कार्यशाला, ई-राष्ट्रीय संगोष्ठी,  ई - अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी इन नामों से ही जाने एवं अपने प्रपत्र पर  अथवा सूचना पत्र पर इन नामों का ही उल्लेख करें। इस प्रकार बहुत जल्दी हम विभिन्न  शब्दों से बाहर निकल चुके होंगे और ई- संगोष्ठी, ई-कार्यशाला, ई-व्याख्यान इन चीजों पर ध्यान केंद्रित होगा। इस अभियान के प्रति हमारी शुभकामनाएँ! 


 


प्रोफेसर डॉ (मा) अरविन्द कुमार गुप्ता, भाषा संकाय, कृपनिधि ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस, बैंगलोर  -  मेरे विचार में भी ई-गोष्ठी होना चाहिए क्योंकि हम आमतौर पर सामूहिक परिचर्चा के लिए गोष्ठी शब्द का ही प्रयोग करते हैं और ई का प्रयोग उपसर्ग के रूप में हम एक लंबे समय से तकनीक के प्रयोग के लिए करते आ रहे हैं जैसे डिजिटल पुस्तक के लिए ई- पुस्तक, डिजिटल लाइब्रेरी के लिए ई- ग्रन्थालय शब्दों का प्रयोग होता रहा है, थोड़ा और संशोधन चाहें तो ई - संगोष्ठी प्रयोग किया जा सकता है।


 


 


मधुसूदन नायडू, सहायक निदेशक, हिशियो ( सेवानिवृत्त) नागपुर - वेबिनार केवल सेमिनार के लिए नहीं होता इसके अलावा मार्केटिंग के काम में आता है. उसके लिए ई संगोष्ठि से काम नहीं चलेगा।


 


राहुल खटे, प्रबंधक राजभाषा, भारतीय स्टेट बैंक,नाशिक - "ई-संगोष्ठी" ही योग्य शब्द है। क्योंकि यह न केवल वर्तमान के लिए बल्कि भविष्य में भी चलने योग्य है। 'ई-ऑफिस', 'ई-कार्यशाला', 'ई-संगोष्ठी', 'ई-बैठक', 'ई-गोष्ठी' से ई-संगोष्ठी समीचीन लगता है।


 


मोहन के गौतम - E भी तो अंग्रेज़ी का ही शब्द है। शब्दों को अपनाने से भाषा की उन्नति हाई होती है। हमारी हिंदी में भारतीय भाषाओं के साथ पुर्तगाली, फ़्रांसीसी , डच, फ़ारसी, तुर्की , अरबी से भी बहुत से शब्द अपना लिए हैं। आप इन शब्दों को निकाल कर बोलें तो आपका सम्प्रेषण नहीं होगा। इन संकुचित विचारों से शायद आप तो ख़ुश होंगे पर अन्य लोग नहीं। यदि भारत से कोई नाम निकल होता तो अन्य देशों में वह भी अपनाया जाता।


मोहनलाल मीणा - हिंदी के भाषाविदों ने इसके लिए "वेबसंगोष्टी" शब्द सुझाया है जो अंगरेजी के Webinar का सर्वमान्य और शाब्दिक एवं भावार्थ के अनुरूप है। मेरे विचार से इस पर ज्यादा सोच-विचार की कोई गुंजाइश नहीं है। यह काफी समय से प्रचलन में भी है। वाई.सी पांडेय - अंतर्जाल-संगोष्ठी या अंतर्संगोष्ठी ।


कमलकांत त्रिपाठी -  ई संगोष्ठी से जी सहमत हूं। वैसे ई का पुछल्ला इसमें भी लगा ही हुआ है। हम वेबीनार को हिंदी का एक नया शब्द भी तो मान सकते हैं। संज्ञाएं संपर्क में आनेवाली भाषाओं में उछल कूद मचाती रहती हैं और एक दूसरी से संज्ञाएं ग्रहण करती रहती हैं। हिंदी में हजारों शब्द अरबी, फारसी, तुर्की से लेकर आत्मसात कर लिए गए हैं। इसलिए जो चल पड़ा सो चल पड़ा। लोगों पर जबरन कोई चीज न थोपी जा सकती है, न निषेध लागू किया जा सकता है।


प्रमोद दुबे -  भाई शब्द ऐसा हो कि सभी समझ सके। इसलिए ई-संगोष्ठी ज्यादा उचित प्रतीत होता है।


राहुल मिश्र - हमने विगत २२ जून को अंतरराष्ट्रीय अंतर्जालिक परिसंवाद का संयोजन किया था। 


अंजनि कुमार ओझा - सही है सर जी। हम यही ( ई-संगोष्ठी) कहते है।  


रामराज्य शर्मा - सही कहा । यही ( ई-संगोष्ठी) होना चाहिए ।आज से हम आप इसी शब्द का प्रयोग शुरू कर दें । 


मृणालिका ओझा - हम ई संगोष्ठी के पक्षधर हैं।


अनुश्री प्रिया - ई संगोष्ठी उचित रहेगा। 


तुषार कांति - जो प्रचलित है, अपनाने से भाषा समृद्ध ही होगी। घोंघा बसंत हो कर तुलसी भी राम चरित मानस न रच पाते।


शकुंतला चौहान - सही कहा आपने। ई संगोष्ठी ही कहना चाहिए।


अंजना चौधरी - मेरे विचार से ई संगोष्ठी एक सटीक शब्द है।


 


सोशल मीडिया के विभिन्न समूहों पर सैंकड़ों हिंदी व भारतीय भाषा प्रमियों, साहित्यकारों व भाषा-प्रेमियों ने अपनी सहमति जताई है और निम्नलिखित विद्वानों ने भी ई-संगोष्ठी शब्द पर अपनी सहमति प्रेषित की है।


श्रीमती संपत देवी मुरारका, विश्व वात्सल्य मंच, हैदराबाद, सुश्री अंजना चौधरी, प्रसाद कोचरेकर, डॉ जगदीशचंद्र, पी.के. अग्रवाल  प्रदीप्त, अनिल आर्य, डॉ. सतविर सिंह, इरा गुप्ता, बालमुकुंद पुरोहित,  शेख वहाब, शरद यादव, डॉ. सतवीर सिंह, जगजीत कुमार गुप्ता, मनोज शुक्ला, सतपाल कौर आदि। 


 


संयोजक मंतव्य 


अगर केवल अनुवाद के माध्यम से तत्काल वेबिनार के लिए शब्द बनाना है तो सेमिनार के पर्याय के रूप में वेब में संगोष्ठी जोड़ते हुए शब्द बना लेना एक आसान काम है। मुझे भी पहले यही सूझा था पर और अधिक विचार किया तो लगा कि व्यापकता का शब्द लेना उचित होगा।  हमें भविष्य को ध्यान में रखते हुए और विभिन्न वर्तमान और भावी विभिन्न माध्यमों और अन्य संबंधित  शब्दों को ध्यान में रखते हुए यदि सोचना है तो ‌ वेब शब्द के बजाए ई संगोष्ठी शब्द को अपनाना बेहतर लगता है।  इससे भविष्य में भी आवश्यकतानुसार  'ई' उपसर्ग के साथ अन्य शब्दों के साथ जोड़ कर नए शब्द बनाए जा सकेंगे। वेब का प्रयोग सब जगह नहीं किया जा सकता। हो सकता है भविष्य में ऐसे माध्यम भी आएँ जो वेब आधारित न हों। वर्तमान में भी विभिन्न अर्थछायाओं के साथ वर्तमान में प्रयुक्त हो रहे वेब, वर्च्युअल, वीडियो, तथा ऑनलाइन आदि से बनने वाले ऐसे सभी शब्दों को 'ई' उपसर्ग के साथ हिंदी शब्द जोड़कर प्रयोग किया जा सकता है।  


 


 वेबिनार का पर्याय ई-संगोष्ठी होने के साथ-साथ, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग - ई-बैठक , ऑनलाइन मीटिंग - ई-बैठक, वर्चुअल क्लास - ई कक्षा, व्हाट्सएप पर होने वाली चर्चा- ई चर्चा, फेसबुक आदि पर प्रस्तुत ऑनलाइन संगोष्ठी - ई-संगोष्ठी, ई-चर्चा आदि। इसी प्रकार ई-कार्यशाला, ई-व्याख्यान, ई-कवि-सम्मेलन, ई-काव्य गोष्ठी, ई-परिचर्चा, ई-संवाद आदि अनेक शब्द बन सकेंगे।  वर्तमान के विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों के लिए उपसर्ग के रूप में 'ई' शब्द का प्रयोग किया जा सकता है और भविष्य में भी किया जा सकेगा  इसलिए मुझे लगता है कि 'ई' संगोष्ठी' को स्वीकार करना इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों के विभिन्न मंचों और इससे संबंधित बनने वाले विभिन्न शब्दों आदि के लिए प्रयुक्त करना सरल, सहज और स्पष्ट होगा। ध्यान रहे कि सूचना-प्रौद्योगिकि नए-नए माध्यमों और प्रौद्योगिकी के साथ बहुत तेजी से बदल रही है। साल-दो साल बाद क्या नया आएगा और क्या दुनिया पर छाएगा, कोई नहीं जानता। ध्यान रहे 'ई' में 'वेब' है, 'वेब' में 'ई' नहीं। यदि हम सीमित से जुड़ गए तो हमें हर बार अंग्रेजी में प्रयुक्त शब्दों का अनुवाद करते हुए अलग-अलग शब्द बनाने पड़ेंगे। आखिरकार, चलेगा तो वही जो जन-जन को होगा स्वीकार, हम भी उसे ही करेंगे स्वीकार। नमस्कार।


 


धन्यवाद ज्ञापन:


वैश्विक हिंदी सम्मेलन की इस संगोष्ठी में विभिन्न विद्वानों ने गहनता से विचार-मंथन किया और अधिकांश लोग एक बात पर सहमत हैं कि हमें वेबिनार के लिए हिंदी व भारतीय भाषाओं में अपना कोई शब्द प्रयोग करना चाहिए। यह भविष्य के लिए भी अच्छा संकेत है कि जब कोई नई अवधारणा आए हम इसी प्रकार विचार-विमर्श कर किसी एक शब्द को अपनाएँ। वैचारिक भिन्नताएँ तो होंगी ही। यह भी क्यों सोचा जाए कि जो मैंने कह दिया पत्थर की लकीर हो गया। विचार-मंथन या जनस्वीकृति के अनुसार उसमें परिवर्तन भी हो सकता है। इसमें न किसी का लाभ है न हानि। यदि एक शब्द पर सर्वसम्मति न भी हो तो भी अंग्रेजी के शब्द को ज्यों का त्यों लेने के बजाए आवश्यकतानुसार एक से अधिक शब्द भी चलें तो भी विशेष कठिनाई नहीं। चर्चा में भाग लेने वाले तथा सोशल मीडिया के विभिन्न मंचों के माध्यम से अपनी सहमति- असहमति, अपने विचार तथा सुझाव देने वाले सभी विद्वानों और भारतीय-भाषा प्रमियों का सादर, सप्रेम आभार व धन्यवाद।


 


डॉ. एम.एल. गुप्ता 'आदित्य' 


वैश्विक हिंदी सम्मेलन, मुंबई


बाढ़ का प्रकोप

बाढ़ का प्रकोप



बादल को फटते देखा है
बाढ़ में बर्बादी की रेखा है
डूब गई घरबार
चौपट हो गई फसलें
पानी की तेज़ रफ़्तार
अपने साथ सब कुछ
बहा ले जाने को है बेताब
चाहें पेड़ हो, बिजली की खंभे
या मकान जो भी रास्ते में
आता वह पानी की भेंट
चढ़ जाता
रास्तों के  किनारे आश्रय
ढूंढते लोग
दाना- पानी को तरसते लोग
बदलते रहे साल पर साल
क्यों है लोगों का वहीं हाल?


राज कुमार साव
बादशाही रोड माठ पारा बर्धमान
पूर्व बर्धमान
पश्चिम बंगाल


अंक जीवन में सब-के-सब और अंत नहीं हैं। (गहन-चिन्तन-मनन करना चाहिए कि क्या ये अंक बच्चों की प्रतिभा की निशानी मान लिए जाये)

पिछले दस दिनों से बहुत हैरान हूँ मैं, एक अंधी दौड़ देख रहा हूँ, दसवीं और बारहवीं कक्षा के नतीजे क्या घोषित हुए, मुझे तो समझ ही नहीं आ रहा की हर बच्चे के 95 प्रतिशत से ज्यादा मार्क्स बड़े-बड़े फोटो और फिर बधाइयों की बौछार, एक प्रतियोगिता और शुरू, क्या ये संभव है कि इतने-इतने मार्क्स वो भी बोर्ड कि परीक्षाओं में, मुझे तो पूरी शिक्षा प्रणाली पर ही संदेह हो गया है और व्यवस्था पर सवाल कुलबुलाने लगे है कि आखिर क्यों हमारी शिक्षा प्रणाली  वास्तविक ज्ञान को परखने कि बजाय एक पोस्टर के लिए दौड़ रही है.

 इसी बीच सोशल मीडिया पर वायरल हुई एक पोस्ट का शब्द-शब्द मुझे पूर्ण सत्य लगता है. 499 वाली एक बिटिया परेशान है कि उसका 1 नंबर इस कम रह गया क्यूँकी वो सोशल मीडिया पर अपना समय देती थी। उसे पूरी तरह से एंटीसोशल ना बन पाने का दुःख है। मुझे उससे सहानुभूति है। उसके रिश्तेदारों को उसे तुरंत एक चॉकलेट देनी चाहिए और सर पर हाथ फेरते हुए कहना चाहिए, “बेटा सब ठीक हो जायेगा”। आज सबसे बड़ा प्रश्न ये है कि स्कूली परीक्षाओं से मेरिट लिस्ट निकाली जाए या नहीं।

कोरोना वायरस महामारी द्वारा बनाई गई असाधारण परिस्थितियों के कारण सीबीएसई और सीआईएससीई बोर्ड के साथ-साथ लगभग हर राज्य बोर्ड ने ने इस साल कक्षा 10 और कक्षा 12 के परिणाम घोषित किए। इस कदम को कुछ लोगों द्वारा प्रगतिशील के रूप में देखा जाता है और कुछ अन्य द्वारा प्रतिगामी, इसलिए, यह आकलन करना आवश्यक हो जाता है कि मेरिट सूची को स्कूल की परीक्षाओं से हटा दिया जाना चाहिए या नहीं।

जिस बोर्ड के अंतर्गत पढ़ रहे बच्चे 500 में से 499 अंक ले आएं उस बोर्ड के मेम्बरान को सोचना  चाहिए। जिस पेपर में बच्चों के 100 में से 100 अंक आएँ, उसकी पेपर सेटर समिति के हर सदस्य को गहन-चिन्तन-मनन करना चाहिए। क्या  ये अंक बच्चों की प्रतिभा की निशानी मान लिए जाये? मेरे विचार से  ये एक पूरी शिक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़ा करते है। और  साथ ही कॉपी जांचने वाले शिक्षकों को भी सोचन होगा कि क्या वे अपना काम सही तरीके से कर रहें है ? आखिर ज्यादातर छात्र इतने अंक कैसे ले पा रहे हैं ?

पर दोष इन  मासूमों का नहीं है, दोष कमबुद्धि अध्यापकों, रट्टोत्पादी आंकलन व्यवस्था का है. इस  आंकलन व्यवस्था से निकले रट्टू कोचिंगो की लिफ्ट से रातों-रात गली मोहल्ले में छा जायेंगे और मेरिट लिस्ट से छात्रों को यह काल्पनिक अहसास करवा देंगे कि उपलब्धि का मतलब क्या है और उनकी बाहरी मान्यता क्या है। यह छात्रों के बीच अस्वस्थ प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देता है। मुझे ये सूची, जो छात्रों को उनके परीक्षा के अंकों के आधार पर रैंक करती है, निरर्थक लगती है। जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं, हमें एहसास होता है कि ये योग्यता सूची कितनी बेमानी है,सामाजिक रुतबे के लिए भी परीक्षा के अंक हो सकते है क्या? सोचना होगा। लेकिन कभी भी  कुल मिलाकर सफलता इससे निर्धारित नहीं की जा सकती है कि छात्र ने कितने अंक प्राप्त किए हैं।

इस तरह की सूचियों ने वर्षों से छात्रों पर अनावश्यक दबाव डाला है और हमारी दोषपूर्ण शिक्षा प्रणाली में चूहे की दौड़ को तेज किया है। कम अंकों से जुड़ा कलंक, योग्यता सूचियों को दिया गया अनुचित महत्व वास्तव में इस बात का लक्षण है कि भारत में छात्रों को परीक्षाओं केअच्छे ग्रेड  कैसे प्रभावित करते है, और किस तरह यहाँ निम्न स्कोर वाले छात्रों को कलंक से जोड़कर देखा जाता है, जिसके चलते देश भर में हज़ारों छात्र परीक्षा परिणाम के दिनों में आत्म हत्या कर लेते हैं.

स्कूलों और हमारे अन्य शिक्षण संस्थानों को ये बात ध्यान में रखनी होगी कि आज के इस ओद्योगिक और प्रतियोगी युग में नियोक्ता प्रतिभाओं की तलाश करते हैं, टॉपर्स की नहीं.  नियोक्ताओं की भर्ती के मापदंड किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश करते हैं जिसमें प्रतिभा, दृढ़ संकल्प, दूसरों के साथ काम करने की क्षमता, कौशल का सही सेट और एक हार्ड-वर्कर हो। ये कौशल दुर्भाग्य से हमारे शिक्षा प्रणाली के छात्रों में नहीं हैं। इतिहास के अध्यायों या रसायन विज्ञान के फॉर्मूले याद करने और अंकों पर अधिक ध्यान देने के बजाय, छात्रों को कौशल और ज्ञान प्राप्त करने का  ज्यादा से ज्यादा प्रयास करना चाहिए।

आज इस चूहा दौड़ की  प्रक्रिया में, स्कूल पाठ्यक्रम छात्रों को महत्वपूर्ण संज्ञानात्मक जीवन कौशल से वंचित करता है। इस माह परिणाम घोषित होने के ठीक बाद, सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर कई लोगों ने इस तथ्य को रेखांकित करने के लिए अपने पुराने बोर्ड परीक्षा के अंक साझा किए कि अंक जीवन में सब-के-सब और अंत नहीं हैं। आईएएस अधिकारी नितिन सांगवान ने ट्विटर पर लिखा कि वह 12 वीं कक्षा में अपनी रसायन विज्ञान की परीक्षा देने में मुश्किल से कामयाब रहे, लेकिन इससे उन्हें कोई दिक्कत नहीं हुई। हालांकि, कुछ शिक्षाविदों और रैंक धारकों ने मेरिट सूची के महत्व पर जोर दिया:

एक बार मेरिट सूची में आ जाने के बाद, छात्र बोर्ड परीक्षा को गंभीरता से नहीं लेते। मेरिट लिस्ट में जगह बनाने की सोच छात्रों में प्रतिस्पर्धा की भावना पैदा करती है। योग्यता सूची में एक रैंक हासिल करने के बाद प्राप्त प्रशंसा के टोकन से उन्हें  थोड़े समय की संतुष्टि मिलती है। यद्यपि मेरिट सूची छात्रों को बेहतर करने के लिए प्रोत्साहित करती है, लेकिन हमे प्रगतिशील दृष्टिकोण अपनाने की आवश्यकता है। योग्यता आधारित प्रणाली की कमियों को दूर करने के लिए बेहतर शिक्षा परिणामों के लिए नवीन विचारों को पाठ्यक्रमों में लागू करना चाहिए।

परियोजना टीमों में एक साथ काम करना और प्रशिक्षित शिक्षकों द्वारा निर्देशित करना, छात्र समूहों में सहयोग, भावनाओं को प्रबंधित करने और संघर्षों को हल करने के कौशल सीखना अंकों से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। छात्र शक्ति और कमजोरियों की एक विस्तृत, निरंतर प्रोफ़ाइल के लिए मूल्यांकन को सरल परीक्षण स्कोर से परे विस्तारित किया जाना चाहिए। शिक्षक, माता-पिता और व्यक्तिगत छात्र अकादमिक प्रगति की बारीकी से निगरानी का तरीका ढूंढना चाहिए हैं और उन क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए जिनमें सुधार की आवश्यकता है।

इसलिए मेरिट लिस्ट को स्क्रैप करना एक प्रगतिशील दृष्टिकोण है क्योंकि यह छात्रों के दिमाग से अच्छा प्रदर्शन करने के अनावश्यक बोझ को कम करता है। लेकिन साथ ही कुछ अन्य विधियां  तैयार की जानी चाहिए ताकि प्रत्येक छात्र का समग्र एवं सर्वांगीण विकास हो सके. जब एप्पल का कोफाउंडर  ये कह देता है कि ‘भारत के छात्रों में रचनात्मकता नहीं है’ तो हमें थोड़ा दिन अवश्य देना चाहिए और जहां हमारी शिक्षा व्यस्था कमजोर दिखे वहां उसे दुरुस्त करने की जिम्मेवारी उठानी चाहिए ताकि  देश का भविष्य सही हाथों में सुरक्षित रह सके और तभी होगा जब शिक्षा ठीक होगी.


Sunday, July 19, 2020

गीता का धर्म  राष्ट्रधर्म      

           गीता हिन्दू धर्म का सबसे पवित्र ग्रन्थ माना जाता है । धर्म का सामान्य अर्थ जातीय सम्प्रदाय से अथवा वर्ण व्यवस्था से लिया जाता है परन्तु यदि हम गीता का विशद अध्ययन करें तो हम देखते हैं कि गीता में किसी धर्म विशेष की व्याख्या नहीं की गई न कोई धार्मिक विश्लेषण किया गया है । गीता के प्रथम अध्याय का प्रथम श्लोक है –


        धर्म क्षेत्रे कुरूक्षेत्रे समवेता युयुत्सवः ।


        मामकाः पाण्डवाश्चैव किम कुर्वत संजय ।। अध्याय 1 श्लोक 1


                   तथा


अठारहवें अध्याय का अंतिम श्लोक है -


        यत्र योगेश्वरः कृष्णो तत्र पार्थो धनुर्धरः ।


        तत्र श्री र्विजयो भूर्तिध्रुवा नीतिर्ममतिर मम । । अध्याय 18 श्लोक 78


 अर्थात गीता का पहला शब्द धर्म और अंतिम शब्द मम है ।


सम्पूर्ण गीता में मम धर्म की व्याख्या की गई है अर्थात मेरा धर्म क्या है  ? इस प्रकार सम्पूर्ण गीता का प्रतिपाद्य विषय मेरा धर्म क्या है ?


   हिन्दू धर्म में धर्म को एक व्यापक स्वरूप में लिया गया है जिसका तुल्य शब्द अन्य भाषा में नहीं । धर्म शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के धृ धातु से हुई है जिसका अर्थ है धारण करना । अतः धर्म शब्द का अर्थ है - धारणाद् धर्म मित्याहु । धर्मेण विधृता प्रजाः । अर्थात जिसके द्वारा कोई वस्तु पूर्ण रूप में धारण की हुई रहती है ।


         इस प्रकार धर्म का तात्पर्य यह है कि वह जो किसी वस्तु का अस्तित्व प्रकट करता है । जैसे सूर्य का धर्म प्रकाश है अग्नि का धर्म उष्णता है । धर्म का अर्थ केवल साधुता या नैतिकता नहीं है वरन अपने सच्चे स्वरूप को पहचान उसी के अनुरूप कार्य करना है ।इस प्रकार मनुष्य का धर्म मानवता है ।


        इसी धर्म की व्याख्या गीता के अठारह अध्यायों में विभिन्न रूपों में की गई है । गीता का सारांश है - मेरा धर्म क्या है ? गीता का ज्ञान सर्वथा विपरीत परिस्थितियों में युद्ध के मैदान में युद्ध से होने वाले दुश्परिणामों के विषय में सोचकर मोहग्रस्त अर्जुन को अपने राष्ट्र को बचाने के लिए निराशा से मुक्ति दिलाने के लिए श्रीकृष्ण द्वारा  दिया गया ज्ञान है । अर्जुन कहता है -


                   कुलक्षये प्रणश्यन्ति कुलधर्माः सनातनाः।


                   धर्मे नष्टे कुलं कृतस्नमधर्मोऽभिभवत्युत ।। अध्याय 1 श्लोक 40


      अर्जुन का तर्क है कि कुल के नष्ट हो जाने से सनातन धर्म नष्ट हो जाते हैं । धर्म नष्ट होने पर सम्पूर्ण कुल में पाप भी बहुत फैल जाते हैं  ।श्री कृष्ण का उपदेश इसी संदर्भ में है कि राष्ट्र की संस्कृति ,उसकी रक्षा ,उसकी सेवा अच्छे नागरिक का कर्तव्य पूरा करके की जा सकती है पलायन करके नहीं । व्यक्ति से समाज और समाज से राष्ट्र बनता है । व्यक्ति के उत्थान से समाज का और समाज के उत्थान से राष्ट्र का उत्थान होता है ।


       व्यक्ति के उत्थान के लिए यह आवश्यक है कि वह नैतिक और भौतिक दोनों पक्षों को समान रूप से विकसित करने का प्रयास करे । येन केन प्रकारेण से  अर्जित किए धन से भौतिक साधन तो प्राप्त किए जा सकते हैं परन्तु नैतिकता के गुणों का विकास न होने से सुख शान्ति का सर्वथा अभाव रहता है । इन्हीं नैतिक गुणों का विकास कैसे हो , सही जीवन जीने की कला का ज्ञान गीता में दिया गया है ।


    गीता में प्रमुख रूप से राष्ट्रधर्म की ही शिक्षा दी गई है । इसका अर्थ यह है कि व्यक्ति का राष्ट्र  के प्रति क्या धर्म होना चाहिए कौन से गुण होने चाहिए जिससे वह राष्ट्र का सुयोग्य नागरिक बन सके । राष्ट्रधर्म के लिए आवश्यक है कि व्यक्ति में  राष्ट्रवादिता , पराक्रमशीलता, पारदर्शिता , दूरदर्शिता , मानवतावाद , अध्यात्मवाद , विनयशीलता जैसे गुण हों । गीता में इन्हीं तत्वों को विकसित करने का  ज्ञान दिया गया है ।


राष्ट्रवादिता - राष्ट्र की संस्कृति की इकाई कुल की अर्थात परिवार की संस्कृति होती है युद्ध से सभ्यता और संस्कृति नष्ट हो जाएगी । इस प्रकार अर्जुन के माध्यम से यह बताया गया है कि व्यक्ति के हृदय में धर्म और तत्वज्ञान की मांग तभी होगी जब उसमें  राष्ट्र के प्रति अनुराग होगा और अपने वह उसके प्रति  कर्तव्य का अनुभव करेगा । इस प्रकार प्रथम अध्याय से ही राष्ट्र के प्रति समपर्ण गीता में दर्शाया गया है ।


कर्तव्यपराणयता- गीता वास्तव में कर्म योग का ग्रंथ है। कर्मयोग का अर्थ है कर्म करते हुए लक्ष्य की ओर अग्रसर होना। हर व्यक्ति के जीवन में कोई न कोई संघर्ष चलता रहता है । इनसे विचलित हुए बिना निरन्तर प्रयत्नशील रहना चाहिए -  


                    हतो वा प्राप्यसि स्वर्गम् जित्वा वा मोक्ष्यसे महीम् ।


                तस्मात्  उत्तिष्ठ  कौन्तेय  यु़द्धाय कृतनिश्चयः।।  अध्याय   2,श्लोक 37


‘या तो तू युद्ध में मारा जाकर स्वर्ग को प्राप्त होगा अथवा संग्राम में जीतकर पृथ्वी का राज्य भोगेगा । इस कारण हे! अर्जुन तू युद्ध के लिए निश्चय करके खड़ा हो जा।‘  


                     कर्मण्येवाधिकारस्ते   मा  फलेषु     कदाचनः।


                     मा कर्मफल हेतुःमा भूःते अकर्मणि संग मा अस्तु।। अध्याय 2,श्लोक 47


‘तेरा कर्म करने में अधिकार है उसके फल मेें कभी नहीं।  इसलिए तू कर्मों के फल का हेतु मत हो तथा तेरी कर्म करने में भी आसक्ति न हो।‘कर्मनिष्ठ बनकर ही राष्ट्र की सेवा की जा सकती है ।


कोई कार्य छोटा-बड़ा या  अच्छा बुरा नहीं होता -


  बिना प्रयास के कार्य सिद्ध नहीं हो सकता कोई कार्य छोटा-बड़ा अच्छा बुरा नहीं होता। हर काम में कुछ न कुछ अच्छाई है तो कुछ न कुछ बुराई भी होगी।


             सहजं कर्म कौन्तेय सदोषम् अपि न त्यजेत् ।


             सर्वारम्भा हि दोषेण धूमेन अग्निःइव आवृताः ।। अ० 18,श्लोक 48


        दोषयुक्त होने पर भी सहज कर्म को नहीं त्यागना चाहिए क्योंकि धुंए से अग्नि की भांति सभी कर्म किसी न किसी दोष से युक्त हैं। कार्य छोटा है बड़ा ,  अच्छा है या बुरा जब यह भाव मन में नहीं आता तो कार्य की गुणवत्ता स्वतः बढ़ जाती है । यदि हर व्यक्ति अपने नियत कार्य को सम्पूर्ण लगन से करे तो राष्ट्र की उन्नति अवश्य होगी ।


स्वाभिमान के साथ जीवन -


कोई धर्म ऐसा नहीं जिसमें सारी अच्छाई हो तथा कोई धर्म ऐसा नहीं जिसमें केवल बुराइयाँ हों।


श्रेयान्स्वधर्मो विगुणः परधर्मात्स्वनुष्ठितात् ।


                 स्वधर्मे निधनं   श्रेयः परधर्मो    भयावहः ।। अ०3,श्लोक 35


‘अच्छी प्रकार आचरण में लाये हुए दूसरे के धर्म से गुणरहित भी अपना धर्म अति उत्तम है। अपने धर्म में तो मरना भी कल्याण कारक है और दूसरे का धर्म भय को देने वाला है। इसलिए-


श्रेयान्स्वधर्मो विगुणः परधर्मात्स्वनुष्ठितात् ।


               स्वभावनियतं कर्म कुर्वन्नाप्नोति किल्बिषम् ।। अ०18,श्लोक 47


‘अच्छी प्रकार आचरण किए हुए दूसरे के धर्म से गुणरहित भी अपना धर्म श्रेष्ठ है क्योंकि स्वभाव से नियत किए हुए स्वधर्मरूप कर्म को करता हुआ मनुष्य पाप को प्राप्त नहीं होता।‘


यहाँ धर्म से तात्पर्य हिन्दू , मुस्लिम , सिख , ईसाई से नहीं है जैसा कि दूसरे श्लोक में स्पष्ट किया गया है । यहाँ धर्म से तात्पर्य है - मनुष्य का धर्म मानवता से है उसके अपने कार्यों से है । जैसे रेल चलाने वाला एक व्यक्ति हवाई जहाज चलाने का प्रयास करे तो दुर्घटना होना निश्चित है । परिणाम भयावह ही होगा । अतः अच्छी तरह से आत्मसात अपनी  कार्यक्षमता के अनुरूप ही कार्य करके राष्ट्रधर्म का पालन किया जा सकता है ।


विषय वासनाओं का त्याग -


                   ध्यायतः, विषयान् पुसः, सग्ङ, तेषु, उपजायते, ।


            सग्ङात्,सञजायते,कामः,कामात्,क्रोधः,अभिजायते ।। अ० 2 श्लोक 62


   ‘विषयों का चिन्तन करने वाले पुरूष की उन विषयों में आसक्ति हो जाती है, आसक्ति से उन विषयों की कामना उत्पन्न होती है और कामना में विघ्न पड़ने से क्रोध उत्पन्न होता है।


                        क्रोधात् भवति सम्मोहः सम्मोहात्स्मृतिविभ्रमः।


                     स्म्तिभ्रंशाद  बुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश्यति ।। अ० 2 श्लोक


            क्रोध से अत्यन्त मूढ़भाव उत्पन्न हो जाता है , मूढ़भाव से स्म्ति में भ्रम हो जाता है , स्म्ति में भ्रम हो जाने से बुद्धि अर्थात ज्ञानशक्ति का नाश हो जाता है और बुद्धि का नाश हो जाने से यह पुरूष अपनी स्थिति से गिर जाता है ।


चोरी ,डकैती ,लूट ,रिश्वतखोरी और हर प्रकार के भ्रष्टाचार का कारण विषयों का चिन्तन अर्थात भौतिक चीजों को प्राप्त करने की अन्धानुकरण प्रवृति है । भौतिक सुखों के पीछे व्यक्ति दौड़ रहा है वही उसके दुखों का कारण है ।  आज राष्ट्र की सम्पूर्ण समस्यायों की जड़ यही विषयों का चिन्तन है ।


ईश्वर में अटूट आस्था-  सच्चे राष्ट्रभक्त में ईश्वर के प्रति  आस्था होती है वह राष्ट्रसेवा को ईश सेवा की तरह ही लेता है -      अनन्याश्चिन्तयन्तो मां ये जनाः पर्युपासते


                   तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम् ।। अ० 9,श्लोक 22


जो अनन्य प्रेमी भक्त जन मुझ परमेश्वर को निरन्तर चिन्तन करते हुए निष्काम भाव से भजते है, उन नित्य निरन्तर मेरा चिन्तन करने वाले पुरूषों का योगक्षेम मैं स्वयं प्राप्त कर देता हूँ।


                     मन्मनाः भव मदभक्तः मद्या जी माम् नमस्कुरू ।


                 मामेवैष्यसि सत्यम् ते प्रतिजाने प्रियोऽअसि मे ।। अध्याय 18 श्लोक 65


मुझमें मतवाला हो, मेरा भक्त बन, मेरा पूजन करने वाला हो और मुझको प्रणाम कर। ऐसा करने से तू मुझे ही प्राप्त होगा । यह मैं तुझसे सत्यप्रतिज्ञा करता हूँ, क्योंकि तू मेरा अत्यन्त प्रिय है।


समस्त कर्मों को ईश्वर में समर्पित करने से काम बिगड़ने का भय और कर्तापन का अभिमान नहीं रहता । सहज,सरल ,सकारात्मक व्यक्ति ही ऊर्जावान होता है । ऐसे लोग ही राष्ट्र के निर्माण में सहायक होते हैं


बाहय आडम्बर का अभाव- जैसे ईश्वर की आराधना के लिए किसी भी आडम्बर की आवश्यकता नहीं होती, -                  पत्रं पुष्प फलं तोयं यो मे भक्त्था प्रयच्छति


                      तत् अहम् भक्त्युपहृतम् अश्नानि प्रश्तात्ममः


‘जो कोई भक्त मेरे लिए प्रेम से पत्रं, पुष्प, फल, जल, आदि अर्पण करता है, उस शुद्ध बुद्धि निष्काम प्रेमी भक्त का प्रेमपूर्वक अर्पण किया हुआ वह पत्र, पुष्पादि मैं सगुन रूप से प्रकट होकर प्रीति पूर्वक खाता हूँ।‘


वैसे ही देश सेवा के लिए भी किसी प्रकार के आडम्बर की आवश्यकता नहीं होती,। अच्छा इंसान बनना ही सबसे बड़ा राष्ट्र सेवक बनना है ।


विनम्रता का भाव - व्यक्ति में विनम्रता का भाव उसे सकारात्मक दृष्टिकोण प्रदान करता है


                विद्या विनयसम्पन्ने, ब्राह्यमणे,गवि, हस्तिानि ।


                शुनि,च रस,श्वपाके,च पण्डिताःसमदर्शिनः ।।अ०5,श्लोक 18


‘ज्ञानी विद्या और विनययुक्त ब्राहमण मे तथा गौ, हाथी, कुत्ते, और चाण्डाल में भी समदर्शी होते हैं।‘सम्पूर्ण प्राणियों में एक ही ईश्वर के दर्शन करता है ।


सर्वभूत सर्वात्मा-


          सर्वभूतस्थम्, आत्मानम्, सर्वभूतानि च आत्मनि ।


          ईक्षते, योगयुक्तात्मा, सर्वत्र, समदर्शनः ।। अ०6,श्लोक 29


‘सर्वव्यापी अनन्त चेतन में एकीभाव से स्थिति रूप  योग से युक्त आत्मावाला तथा सबमें समभाव से देखने वाला योगी आत्मा को सम्पूर्ण भूतों में स्थित और सम्पूर्ण भूतों को आत्मा में कल्पित देखता है।‘ऊँच -नीच , अमीर गरीब ,देश जाति ,सम्प्रदाय से ऊपर उठकर वसुधैव कुटुम्बकम की परिकल्पना राष्ट्र के लिए ही नहीं वरन विश्व के लिए भी आवश्यक है ।


आत्मा की अमरता में विश्वास-


गीता, आत्मा और परमात्मा के बीच संबंध जोड़ने वाली एक कड़ी है। गीता में कहा गया है कि


           वासंसि जीर्णानि यथा विहाय


            नवानि गृहयाति नरः अपराणि


            तथा शरीराय विहाय जीर्णानि


            अन्यानि, संयाति, नवानि देही अ०2,श्लोक 22


‘जैसे मनुष्य पुराने वस्त्रों को त्यागकर दूसरे नए वस्त्रों को ग्रहण करता है वैसे ही जीवात्मा पुराने शरीरों को त्यागकर दूसरे नए शरीर को प्राप्त होता है। आत्मा का विकास करने का अर्थ है, चरित्र का निर्माण करना, ईश्वर का ज्ञान पाना, आत्मज्ञान प्राप्त करना।‘


 आत्मा अज़र अमर और शाश्वत है यही विश्वास हमारे सैनिकों का मनोबल ऊँचा करता है जो हंसते हंसते राष्ट्र की बलिवेदी पर निःसार हो जाते हैं ।


नेताओं को श्रेष्ठ आचरण करना चाहिए-


                 यत् यत् आचरति श्रेष्ठः तत् तत् एव इतरः जनः।


                 अःयत्     प्रमाणम्  कुरूते   लोकः  अनुवर्तते ।।  अ०3,श्लोक 21


‘श्रेष्ठ पुरूष जो जो आचरण करता है अन्य पुरूष भी वैसा वैसा ही आचरण करते हैं। वह जो कुछ प्रमाण कर देता है समस्त मनुष्य समुदाय उसी के अनुसार बरतने लगता है।‘ मनुष्य का स्वभाव होता है कि जिसे वह श्रेष्ठ समझता है उसका अनुकरण करने का प्रयास करता है। उच्च, ख्याति प्राप्त लोगों को श्रेष्ठ आदर्श प्रस्तुत करना चाहिए। लोकसेवा करने वालों को कभी कोई बहुमूल्य वस्तु भेंट स्वरूप नहीं स्वीकार करनी चाहिए।यदि यह बात आज के नेताओं को समझ आ जाए तो भ्रष्टाचार की समस्या स्वतः हल हो जाए ।


त्याग की भावना-


                आसक्ति अनभिष्वअः पुत्रदार गृहादिषु ।


               नित्यम् च समचित्वम् इष्टा निष्टोंपपत्तिपु ।। अ०13,श्लोक 1


‘पुत्र, स्त्री, घर और धन आदि में आसक्ति का अभाव, ममता का न होना तथा प्रिय और अप्रिय की प्राप्ति में सदा ही चित्त का सम रहना।‘


                विषया विनिवर्तन्ते निराहरस्य देहिनः


               रसवर्जं रसोऽप्यस्य परं दृष्टवां निवर्तते अ०2,श्लोक 59


‘इंद्रियों के द्वारा विषयों को ग्रहण न करने वाले पुरूष के भी केवल विषय तो निवृत हो जाते हैं परन्तु उनमें रहनेवाली आसक्ति निवृत नहीं होती। इस स्थितप्रज्ञ पुरूष की तो आसक्ति भी परमात्मा का साक्षात्कार करके निवृत हो जाती है।‘   अयम् निजः अयम् परोवेति ,गणना लघुचेतसाम् ।


                        उदार चरितानाम  वसुधैव कुटुम्बकम् ।।


मुझे क्या और मेरा क्या इस प्रवृति से ऊपर उठकर जीवन जीने वाला ही राष्ट्र का सच्चा नागरिक बन सकता है ।


अहिंसा-


               अहिंसा,सत्यम्, अक्रोधः, त्यागः, शान्तिपैशुनम् ।


                   दया,    भूतेष्वलोलुप्त्वं्, मार्दवं,    हृीरचापलम् ।। अ०16,श्लोक 2


मन, वाणी और शरीर से किसी भी प्रकार किसी को भी कष्ट न देना, यथार्थ और प्रिय भाषण, अपना उपकार करने वाले पर भी क्रोध न होना, कर्माें में कर्तापन के अभिमान का त्याग, अंतःकरण की उपरति अर्थात चित्त की चंचलता का अभाव, किसी की भी निन्दा न करना, सब भूत प्राणियांे में हेतुरहित दया इंद्रियों का विषयों के साथ संयोग होने पर भी उनमें आसक्ति का न होना, कोमलता, लोक और शास्त्र के विरूद्ध आचरण में लज्जा और व्यर्थ चेष्टाओं का अभाव।


 भय का सवर्था अभाव


              अभयम् सत्वसंशुद्धिः ज्ञानयोगव्यवस्थितिः


              दानम्,दमः,च,यज्ञः,च,स्वाध्यायः,तपः,आर्जवम् अ०16,श्लोक 1


         भय का सवर्था अभाव, अंतकरण की पूर्ण निर्मलता, तत्वज्ञान के लिए ध्यान, योग में निरन्तर दृढस्थिति और सात्विक दान, इन्द्रियों का दमन, भगवान, देवता और गुरूजनों की पूजा आदि ।


शुद्ध ,निर्मल अंतःकरणः वाले व्यक्ति के हृदय में परमात्मा का वास होता है । राष्ट्र की सेवा के लिए ऐसा व्यक्ति सदैव तत्पर रहता है ।


 मानवीय मूल्यांे पर पूर्ण आस्था-मन को यदि वश में कर लिया जाए तो दुःखों का स्वतः नाश हो जाएगा


                            यो न हृष्यति ने द्वेष्टि न शोचति न काङ्क्षति।


                            शुभाशुभपरित्यागी भक्तिमान्यः स में प्रियः।। अध्याय 18 श्लोक 78


जो न कभी हर्षित होता है, न द्वेष करता है न शोक करता है, न कामना करता है तथा जो शुभ और अशुभ सम्पूर्ण कर्मों का त्यागी है वह भक्तियुक्त पुरूष मुझको प्रिय है।


                           समः शत्रौ च मित्रे तथा मानापमानयोः।


                          शीतोष्णसुखदुःखेषु समः सग्ङविवर्जितः ।। अध्याय 18 श्लोक 78


जो शत्रु-मित्र में और मान अपमान में सम है तथा सरदी, गरमी और सुख-दुःखदि द्वन्द्वों मे सम है और आसक्ति से रहित है।        


                      तुल्यनिन्दास्तुतिर्मौनी सन्तुष्टो येन केनचित्।


                          अनिकेतः स्थिरमतिर्भक्तिमान्मे प्रियो नरः।। अध्याय 18 श्लोक 78


जो निन्दा-स्तुति को समान समझने वाला, मननशील और जिस किसी प्रकार से भी शरीर का निर्वाह होने में सदा ही सन्तुष्ट है और रहने के स्थान में ममता और आसक्ति से रहित है-वह स्थिरबुद्धि भक्तिमान् पुरूष मुझको प्रिय है।


जो उपरोक्त गुणों को अपने जीवन में आत्मसात कर ले वह निश्चय ही मानव से महामानव बन जाएगा । ऐसे नागरिकों से विभूषित राष्ट्रनिश्चय ही विश्व गुरू बन जाएगा । इस प्रकार गीता में धर्म को राष्ट्रधर्म के रूप में ही प्रतिपादित किया गया है । राष्ट्रधर्म के प्रति आवाहन करना ही गीता का धर्म है ।


                 स्नेह लता 


विकास नगर , लखनऊ


Aksharwarta's PDF

Avgat Award 2021 Function - Organised by Aksharwarta International Research Magazine & Sanstha Krishna Basanti, Ujjain, M.P., India

Avgat Award 2021 Function  Held on 19 September 2021  Organised by Aksharwarta International Research Magazine & Sanstha Krishna Basanti...