दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी द्वारा संत कबीर दास जयंती एवं विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में वेबिनार का आयोजन 
दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी द्वारा संत कबीर दास जयंती एवं विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में वेबिनार का आयोजन 

 

दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी द्वारा दिनांक 5 जून 2020 को संत कबीर दास जयंती एवं विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में दो सत्रों में विडियो चर्चा का आयोजन किया गया | कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार एवं पत्रकार, राष्ट्र किंकर के संपादक, डॉ. विनोद बब्बर द्वारा की गयी । प्रथम सत्र में डॉ. करुणा शर्मा, साहित्यकार एवं लेखिका द्वारा “संत कबीर के काव्य में भारतीय संस्कृति की अभिव्यक्ति" विषय पर प्रकाश डाला गया तथा द्वितीय सत्र में श्री मिथिलेश कुमार सिंह, लेखक एवं तकनीकी विशेषज्ञ ने “जैव विविधता का संरक्षण" विषय पर अपना वक्तव्य प्रस्तुत किया । दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी के अधिकारियों/ कर्मचारियों तथा अन्य लोगों ने वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग द्वारा कार्यक्रम में भाग लिया ।


प्रथम सत्र में डॉ. करुणा शर्मा ने संत कबीर दास जी के दोहों का व्याख्यान करते हुए उनके जीवन परिदृश्य का विस्तृत दर्शन करवाया तथा तत्कालीन भारतीय समाज में व्याप्त कुरीतियों के विरुद्ध उनके द्वारा मानव चेतना को जगाने हेतु दिए गए योगदान का भी उल्लेख किया । वक्ता ने अपने वक्तव्य में विषय  पर प्रकाश डालते हुए बताया कि भारतीय संस्कृति में सामाजिक समरसता जीवन में सरलता और आडम्बरों का विरोध किया गया है I

द्वितीय सत्र में श्री मिथिलेश कुमार सिंह ने स्वीडिश पर्यावरण कार्यकर्ता  ग्रेटा थुनबर्ग का उदाहरण देते हुए कहा कि पर्यावरण के संरक्षण हेतु वह हमारी प्रेरणा श्रोत होनी चाहिए । उन्होंने श्रोताओं को बताते हुए कि किस प्रकार मानव क्रियाओं के प्रभाव से अनेक जीव जंतु लुप्त हो चुके हैं और अनेकों लुप्त होने की कगार पर हैं सभी से जैव संरक्षण हेतु आवाज़ उठाने और क्रियाशील होने का आह्वाहन किया ।

डॉ. विनोद बब्बर द्वारा दोनों विषयों पर प्रकाश डालते हुए श्रोताओं से कबीर दास जी के दोहों से सीख लेते हुए कर्तव्य पथ पर चलने तथा पर्यावरण का संरक्षण करने हेतु अनेक वृतांतों के माध्यम से प्रेरित किया ।

अंत में श्री आर. के. मीणा, वरिष्ठ पुस्तकालय एवं सूचना अधिकारी, दि.प.ला. द्वारा धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम संपन्न हुआ ।