Aksharwarta Pre Pdf

Tuesday, October 20, 2020

हवा में रहेगी मेरे ख़्याल की बिजली..

इतिहास की ऐसी शख्सियत जिन्होने अपने अल्पकालिक जीवनावधि में दीर्घकालिक प्रभाव छोड़ा है । भगत सिंह,एक ऐसा नाम जिसे सुनकर प्रत्येक युवा हृदय गर्व से फूल जाता है और एक अजीब सी ऊर्जा मन-मस्तिष्क में दौड़ने लगती है । आखिर उनके व्यक्तित्व में ऐसा क्या है जिसके कारण उन्हें लेफ़्टिस्ट, राइटिस्ट, सेंट्रलिस्ट, सोशलिस्ट,नेशनलिस्ट, किसान, मजदूर, विद्यार्थी, युवा और वृद्ध सभीसम्मान की दृष्टि से देखते हैं और उनकी तस्वीर को अपने दफ्तरों, कमरों, बैनरों, पोस्टरों आदि में स्थान देते हैं । मात्र 23 वर्ष की उम्र में समाज को लेकर एक मुकम्मल दृष्टि, परिपक्व राजनैतिक समझ और उद्देश्य व विचारों की स्पष्टता उन्हें अपने समकालीन बड़े नेताओं, बुद्धिजीवियों के समकक्ष और कुछ मामलों में आगे भी खड़ा कर देती है । इतनी कम उम्र में इतना कठोर और सधा हुआ निर्णय (जीवन उत्सर्ग) लेना जिससेवे अन्य शहीदों से भिन्न या उनका सम्मिलित प्रतीक बनकर ‘शहीद-ए-आजम’ के रूप में पहचाने गए ।


क्रांतिकारी किसी सम्मान, गौरव, पुरस्कार या इतिहास में जगह पाने की लालसा में नहीं लड़ते हैं । उनका संघर्ष किसी महान लक्ष्य के लिए होता है जो उच्च आदर्शों, मूल्यों से जुड़ा होता है और उस महान उद्देश्य की प्राप्ति के लिए उनके व्यक्तित्व में भी उच्चादर्श समाहित होते हैं जिससे लोग सदियों तक प्रेरणा लेते रहते हैं ।एक क्रांतिकारी कार्यकर्त्ता, संगठनकर्त्ता, चिंतक और लेखक के रूप में भगत सिंह ने जो भूमिका निभाई वही उन्हें भारतीय क्रांतिकारी चिंतन के प्रतीक के रूप में पहचान दिलाती है । उनके व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं और विचारों से अवगत हुए बगैर उनकी असाधारण लोकप्रियता की पहचान कर पाना मुश्किल है ।


भगत सिंह की जेल नोटबुक की टिप्पणियों के नाम देखकर आश्चर्य होना स्वाभाविक है क्योंकि इसमें मार्क्स,एंगेल्स, त्रोस्की, बर्टेंड रसेल, जान स्टुअर्ट मिल, जान लॉक , हर्बर्ट स्पेन्सर, स्पिनोजा, टॉमस एक्विनास, रूसो जैसे समाजचिंतक, दार्शनिक हैं तो गोर्की, मार्क ट्वेन, अप्टन सिंक्लेयर, विक्टर ह्यूगो, हेनरिक इबसन, टेनिसन और वर्ड्सवर्थ जैसे नाटककार, उपन्यासकर और कवि शामिल हैं । अपनी नोटबुक में भगत सिंह ने विभिन्न विषयों का अध्ययन करते हुए उसमें से महत्वपूर्ण टिप्पणियाँ संग्रहीत कीं जिसमें धर्म की सामाजिक भूमिका के पतनशील तत्वों पर सामाग्री जुटाई , परिवार, निजी संपत्ति और राजसत्ता की क्रांतिकारी आलोचना के दस्तावेज़ जुटाए । उन्होने धर्म और ईश्वर पर अपने विद्रोही विचार ही नही रखे बल्कि परिवार और विवाह संस्था को लेकर भी क्रांतिकारी विचार रखते हैं । भगत सिंह ने लिखा है कि मेरे दिमाग के हर कोने अंतरे से एक ही आवाज़ रह-रहकर उठती- अध्ययन करो । स्वयं को विरोधियों के तर्कों का सामना करने लायक बनाने के लिए अध्ययन करो । अपने मत के समर्थन में तर्कों से लैस होने के लिए अध्ययन करो । भगत सिंह कालकोठरी में रहते हुए जीवन के अंतिम क्षणों में भी विश्वचिंतन के इतिहास का अध्ययन कर रहे थे । इस अध्ययन और एकाग्र चिंतन ने उन्हें बेहद पारदर्शी विवेकसम्पन्न बना दिया ।


आलोचना की दुनिया विचारों की दुनिया है और विचार के लिए बहस जरूरी है । बहस के जरिए एक पीढ़ी में जो सवाल पैदा होते हैं उनके जवाब अगली पीढ़ी को देने होते हैं ।1भगत सिंह मानते थे कि आलोचना और स्वतंत्र विचार क्रांतिकारी के दो अनिवार्य गुण होते हैं और यह भी कि यथार्थवादी होने के लिए तो समूचे पुरातन विश्वास को ही चुनौती देनी होगी । भगत सिंह के चरित्र निर्माण व तर्क, विद्रोह और साहस की दीक्षा पारिवारिक वातावरण से ही प्राप्त होने लगी थी । इनके परिवारजनों ने जहां अपने सिख समुदाय की नाराजगी के बावजूद आर्यसमाज की गतिविधियां जारी रखी थीं वहीं खुद आर्यसमाज के राजनीति से दूर रहने की आम प्रवृत्ति को भी नकार दिया था । भगत सिंह किसी को भी आलोचना के क्षेत्र से बाहर नहीं रख सकते थे धर्म, ईश्वर, राजसत्ता या कोई भी बड़े से बड़ा नेता या कोई अन्य संस्था । उनकी जेल नोटबुक में एक उद्धरण मिलता है जो उल्लेखनीय है –


महान इसलिए महान है क्योंकि


 हम घुटनों पर हैं


           आओ उठ खड़े हों !2


बिना किसी पूर्वाग्रह के, तटस्थ होकर आलोचना का विवेक भगत सिंह के पास था । वे अगर मार्क्स, लेनिन और एंगेल्स को पढ़ते हैं तो त्रोटस्की को भी पढ़ते हैं और उनकी टिप्पणियों को भी अपनी डायरी में जगह देते हैं ।


आज भी जब-तब हिन्दी को गैर-हिन्दी भाषी राज्यों पर थोपने की कोशिशें विभिन्न सरकारों द्वारा समय-समय पर की जाती रही है,ऐसे में हमें भगत सिंह के विचार से भी सीख लेनी चाहिए जो कि उन्होने मात्र सत्रह वर्ष की आयु में ‘पंजाबी की भाषा और लिपि की समस्या’ विषय पर अपने लेख में प्रकट किए –यह सब ठीक है, परंतु हमारे सामने इस समय सबसे प्रमुख प्रश्न भारत को एक राष्ट्र बनाना है । एक राष्ट्र बनाने के लिए एक भाषा का होना आवश्यक है, परंतु यह एकदम हो नहीं सकता । उसके लिए कदम-कदम चलना पड़ता है 3इसी लेख में साहित्य के संबंध में लिखते हैं कि “...साहित्य के बिना कोई देश अथवा जाति उन्नति नहीं कर सकती, परंतु साहित्य के लिए सबसे पहले भाषा की आवश्यकता होती है …”4भगत सिंह को यह स्पष्ट था कि सामाजिक समस्याओं तथा परिस्थितियों के अनुसार यदि नवीन साहित्य की सृष्टि नहीं की जाएगी तो किसी भी महान कार्य अथवा विचार को स्थायी नहीं बनाया जा सकता ।


भगत सिंह जिस क्रांतिकारी संगठन से जुड़े थे उसका उद्देश्य केवल अंग्रेजों से हिंदुस्तान को आज़ाद कराना मात्र नहीं था । उनकी और उनके साथियों की दृष्टि अधिक व्यापक थी । भगत सिंह और उनके साथी ने अगर असेंबली में बम फेंका तो किसी को आघात पहुँचने के लिए नहीं बल्कि उसके पीछे एक पूरा ‘ दर्शन’ था ।भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त चाहते तो बम फेंकने के बाद आसानी से भाग निकलते, मगर उन्होने जानबूझकर अपने को गिरफ्तार कराया क्योंकि वे क्रांतिकारी प्रचार के लिए अदालत का एक मंच के रूप में उपयोग करना चाहते थे ।5यहाँ ‘बम’ एक प्रतीक था ‘विचार’ का, और ‘धमाका’ विचारों के प्रसार का । विश्व भर के चिंतकों को पढ़ते हुए शोषकों की वास्तविक पहचान हो गयी थी इन लोगों को । उन्हें पता था कि पूंजीवादी राज्यों में मजदूर लोग एक मशीनी ताकत होते हैं और आम तौर पर अपने श्रम के सांस्कृतिक महत्व को नहीं पहचानते । आपके मुल्क में ट्रस्टों, राष्ट्रीय शक्तियाँ लूटनेवाले संगठनों, मेहनतकश जनता की कमाई पर जीनेवाली जोंकों का बोलबाला है ।6आज़ादीऔरक्रांतिसेउनकाआशयबहुतव्यापकथा-


आज़ादी का मतलब


भगत सिंह इस बात को बखूबी समझ रहे थे कि सत्ता का चरित्र हमेशा एक जैसा ही होता है, तभी उन्होने कह दिया था गोरे चले जाएंगे और भूरे हम पर राज करेंगे । आज़ादी को स्पष्ट करते हुए भगत सिंह ने कहा था कि हमारी आज़ादी का अर्थ केवल अङ्ग्रेज़ी चंगुल से छुटकारा पाने का नाम नहीं, वह पूर्ण स्वतन्त्रता का नाम है- जब लोग परस्पर घुल-मिलकर रहेंगे और दिमागी गुलामी से भी आज़ाद हो जाएंगे ।7


क्रांति से आशय


भगत सिंह किसी हिंसात्मक क्रांति को बढ़ावा देने के पक्षधर नहीं थे । उनका मानना था कि क्रांति की तलवार विचारों की सान पर पैनी होती है और क्रांति ईश्वर विरोधी हो सकती है मगर मनुष्य विरोधी नहीं । वे इस बात को बखूबी समझते थे कि विचारहीन हिंसात्मक कार्यवाही से मात्र सत्ता का परिवर्तन हो सकता है, व्यवस्था का नहीं । क्रांति का आशय स्पष्ट करते हुए वे कहते हैं कि क्रांति के लिए खूनी लड़ाइयाँ अनिवार्य नहीं हैं और न ही उसमें व्यक्तिगत प्रतिहिंसा के लिए कोई स्थान है । वह बम और पिस्तौल का संप्रदाय नहीं है । क्रांति से हमारा अभिप्राय है – अन्याय पर आधारित मौजूदा समाज-व्यवस्था में आमूल परिवर्तन ।8 भगत सिंह कहते थे कि क्रांति मानवजाति का जन्मजात अधिकार है और उसका कोई अपहरण नहीं कर सकता ।


सन् 1924 में मतवाला पत्रिका में ‘युवक’ नाम से भगत सिंह का एक लेख प्रकाशित हुआ। इसमें भगत सिंह युवावस्था को मानव जीवन का वसंत मानते हुए लिखते हैं चाहे तो त्यागी हो सकता है युवक, चाहे तो विलासी हो सकता है युवक । वह देवता बन सकता है तो पिशाच भी बन सकता है । वही संसार को त्रस्त कर सकता है, वही संसार को अभयदान दे सकता है । संसार में युवक का ही साम्राज्य है । युवक के कीर्तिमान से संसार का इतिहास भरा पड़ा है ।9 जाहिर है कि युवक उत्साह और ऊर्जा का पुंज लिए जिस ओर बढ़ता है उधर ही रास्ता निकाल आता है । साहित्य में युवावस्था को लेकर ऐसी ही भावाभिव्यक्ति ‘दिनकर’जी के यहाँ दिखती है –


संघर्षों के साये में इतिहास हमारा पलता है ।


      जिस ओर जवानी चलती है उस ओर ज़माना चलता है ॥


आखिर क्यों डरती हैं सत्ताएँ युवाओं से ?


अब तक के इतिहास पर नज़र डालें तो हम पाते हैं कि देश में जब भी विपक्षशून्यता की स्थिति बनी है,सड़कें सूनी और संसद आवारा हुई है, तब-तब विद्यार्थी और युवा ही आखिरी उम्मीद के रूप में सामने नज़र आए हैं । देश का युवा खासकर विद्यार्थी वर्ग जिसके पास दिल-दिमाग, जोश और होश दोनों होता है । ये इन्हीं दोनों का संतुलन बनाकर किसी भी स्थापित सत्ता का संतुलन बिगाड़ने की हैसियत रखते हैं । आखिर विद्यार्थी के पास गोली-बंदूक नहीं होती फिर भी ये सत्ताएँ इनसे इतना भय क्यों खाती हैं ? क्योंकि, इनके पास विचारों की ताकत होती है । गोली-बंदूक से सिर्फ बदला लिया जा सकता है किन्तु विचारों से बदलाव लाया जा सकता है । इसी बदलाव से ही डरती हैं सत्ताएँ ।गोरख पांडे की कविता ‘उनका डर’ में इस भय को आसानी से देखा जा सकता है -


 वे डरते हैं


किस चीज़ से डरते हैं वे


तमाम धन-दौलत


गोला-बारूद पुलिस-फौज के बावजूद ?


वे डरते हैं


कि एक दिन


निहत्थे और गरीब लोग


उनसे डरना


बंद कर देंगे ।10


तत्कालीनराजनीतिमेंराष्ट्रवादकेसाथ-साथसाम्प्रदायिकताभीपनपरहीथीजिसपरभगतसिंहकीदृष्टिजानास्वाभाविकथा।महात्मा टालल्स्टोय की पुस्तक Essay and Lettersका उद्धरण देते हुएभगतसिंह धर्म के तीन हिस्सों पर विचार किया –



  1. Essentialsof Religion,यानी धर्म की जरूरी बातें अर्थात सच बोलना, चोरी न करना , गरीबों की सहायता करना, प्यार से रहना इत्यादि ।

  2. Philosophy of Religion, यानी जन्म-मृत्यु, पुनर्जन्म, संसार रचना आदि का दर्शन ।

  3. RitualsofReligion, यानी रस्मों-रिवाज इत्यादि ।


इसमें भगत सिंह ने यह पाया कि पहले हिस्से में सभी धर्म एक हैं जिसमें सच बोलने, चोरी न करने और प्रेम से रहने की बाते हैं । दूसरे हिस्से में भी दर्शन की बातों से भी कोई दिक्कत नहीं है बस तीसरे हिस्से यानी रस्मों-रिवाज से ही सारे भेद शुरू हो जाते हैं । इसलिए वे तीसरी और दूसरी बातों में अंधविश्वास के मेल से जो दिक्कत पैदा होती है उसके कारण धर्म को खारिज करने की बात करते हैं । साथ ही, पहली और दूसरी बात में स्वतंत्र विचारों के साथ यदि धर्म बनता है तो उसको स्वीकृति दे देते हैं । इसके साथ हिदायत भी देते हैं कि लेकिन अलग-अलग संगठन और खाने-पीने का भेदभाव मिटाना जरूरी है, छूत-अछूत शब्दों को जड़ से निकालना होगा ।11 ये लेख 1928 में किरती में छपा था जबकि अंतिम क्षणों के अध्ययन में अपनी नोटबुक में उन्होने मार्क्स का प्रसिद्ध कथन नोट किया था किधर्म मानवता के लिए एक अफीम है।12 इसके साथ ही बर्टेंड रसेल की धर्म आधारित टिप्पणी भी नोट कर रखी थी- धर्म के प्रति मेरा अपना दृष्टिकोण वही है जो लुक्रेटियस का है । मैं इसे भय से पैदा हुई एक बीमारी के रूप में, और मानव जाति के लिए एक अकथनीय दुख के रूप में मानता हूँ ।13 निश्चित ही भगत सिंह का चिंतन समय के साथ अधिक गहन होता गया जिसका रेखांकन उनकी टिप्पणियों से होता है ।उनकायेगहनचिंतनअंततःउन्हेंनास्तिकताकाहीविकल्पउपलब्धकराताहै।


भगत सिंह नास्तिक होने के पीछे तर्क देते हैं कि  मैं पूछता हूँ कि तुम्हारा सर्वशक्तिशाली ईश्वर हर व्यक्ति को उस समय क्यों नहीं रोकता है जब वह कोई पाप या अपराध कर रहा होता है ?ये तो वह बहुत आसानी से कर सकता है ।… मैं आपको यह बता दूँ कि अंग्रेजों की हुकूमत यहाँ इसलिए नहीं है कि ईश्वर चाहता है, बल्कि इसलिए है कि उनके पास ताकत है और हममें उनका विरोध करने की हिम्मत नहीं ।14भगत सिंह स्वयं को नास्तिक कहने लगे थे जिसके कारण उनके कई मित्र उन्हें अहंकारी भी कहने लगे थे । जिसके स्पष्टीकरण के तौर पर  उन्होने ‘मैं नास्तिक क्यों हूँ’ जैसा विचारोत्तेजक लेख लिखा ।


इतिहासऔरसाहित्यमेंगांधीवादकोजिसप्रकारस्थानदियागयाहैक्याभगतसिंहकेविचारोंकोप्रसारितकियागया ?यहाँ गांधी जी की तुलना भगत सिंह से करने के पीछे किसी को कमतर या बेहतर साबित करने का उद्देश्य नहींछिपाहै। क्या अहिंसा और त्याग को पूजने वाले भारतीय जनमानस को भगत सिंह एक हिंसा करने वाले आतंकी ही नज़र आते रहे हैं, जैसी छवि अंग्रेजों ने गढ़ी थी ।भगतसिंहकीनिर्भीकताऔरनिडरताकेजितनेकिस्सेभारतीयोंतकपहुंचेक्याउनमेंकहींभीभगतसिंहकेविचारोंऔरसपनोंकीभीचर्चामिलतीहै ? किसी भी समाजचिंतक या इतिहास को गति देने वाले का सही मूल्यांकन उसके सपनों के आधार पर किया जाना चाहिए । साहित्यकार व आलोचक मुद्रराक्षस लिखते हैं कि जहां भगत सिंह एक तार्किक आधुनिकतावादी थे, गांधी इतिहास को पीछे लौटाने वाले सनातनी हिन्दू थे ।15 बहुत से लोग गांधी जी की तुलना जीसस से करते हैं । इस संबंध में मुद्रराक्षस जी का मत है कि जीसस की थोड़ी तुलना भगत सिंह से जरूर की जा सकती है । गांधी को धोखे से गोली मारी गयी थी । गांधी गोली से मरने का फैसला करके नहीं निकले थे जबकि भगत सिंह और जीसस दोनों ने ही जानबूझकर मृत्यु को बुलाया था ।16 अछूत समस्या, सांप्रदायिक दंगे और उनका इलाज़, विद्यार्थी और राजनीति जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर बहुत ही गंभीर चिंतनपरक आलेख भगत सिंह की वैचारिक स्पष्टता और बेहतर भारत के उनके सपने को दर्शाता है । जहां समता, स्वतन्त्रता और बंधुत्व की स्पष्ट झलक दिख जाती है ।


भगतसिंहकीप्रगतिशीलसोचकेवलबुर्जुआ-सर्वहारासंघर्षतकसीमितनहींथीबल्किस्त्री-पुरुष संबंधपरभीबेबाकटिप्पणीदेतेहैंजिसका संकेत सुखदेव को लिखे एक खत में मिलता है – मैं कह सकता हूँ कि नौजवान युवक युवती आपस में प्यार कर सकते हैं और वे अपने प्यार के सहारे अपने आवेगों से ऊपर उठ सकते हैं ।17जिस समाज मेंभगत सिंह रह रहे थे उसमें किसी युवती को प्रेम करने की आज़ादी देना साधारण बात नहीं थी । भगत सिंह निजी संपत्ति, राज्य की उत्पत्ति और इनके बने रहने के लिए अनिवार्य परिवार और विवाह संस्था की सूक्षता से पड़ताल करते हैं । उनकी जेल नोटबुक में इससे संबन्धित कई महत्वपूर्ण उद्धरण मिल जाएंगे जो कि एंगेल्स को पढ़ते हुए उन्होने नोट किए थे । वर्ग-संघर्ष की शुरुआत के संबंध में एंगेल्स की यह टिप्पणी बहुत महत्वपूर्ण है कि इतिहास में पहला वर्ग-विरोध एकविवाह प्रथा के अंतर्गत पुरुष और नारी के विरोध के विकास के साथ-साथ और इतिहास का पहला वर्ग-उत्पीड़न पुरुष द्वारा नारी के उत्पीड़न के साथ-साथ प्रकट होता है ।18


भारत भूमि की ये बिडंबना ही कही जाएगी कि जहां बुद्ध, कबीर आदि ने जिस मूर्तिपूजा का खंडन किया बाद में उनके अनुयायियों ने उन्हीं की मूर्ति बनाकर पूजना आरंभ कर दिया ताकि उनके विचारों और सिद्धांतों पर तर्क-वितर्क से छुटकारा मिले । हर वर्ष भगत सिंह का शहादत दिवस और जयंती हम मनाते हैं किन्तु कितने लोग उनके विचारों को पढ़ते हैं ? क्या ज़्यादातर युवा केवल सोशल मीडिया पर उनकी तस्वीर चस्पाकर अथवा उनकी फोटो बनी टी-शर्ट पहनकर ही खुश नहीं हो लेते हैं ? जिस अधूरे स्वप्न और सुनहरे भविष्य को दिल में बसाये हुए फांसी के फंदे को चूमा था क्या आज हम उस सपने को पूरा करने की कोशिश में भागीदार हैं ? आज भगत सिंह व्यक्ति नही विचार हैं और व्यक्ति को मारा जा सकता है किन्तु उसके विचारों को नहीं । इस बात से वे भी भली-भांति आश्वस्त थे,वरना अपने छोटे भाई कुलतार सिंह को लिखे ख़त में इस शे’र को अनायास ही जगह नहीं देते –


हवा में रहेगी मेरे ख़्याल की बिजली ।


ये मुश्ते - खाक़ है फानी,रहे न रहे ।।19


 


संदर्भ –



  1. पंकज बिष्ट (सं), समयांतर (पत्रिका), वर्ष-50, अंक-3, दिसंबर 2018, पृष्ठ सं- 47

  2. चमन लाल (संक. एवं संपा.), भगत सिंह के सम्पूर्ण दस्तावेज़, आधार प्रकाशन, हरियाणा, सं-2018, पृष्ठ सं – 389

  3. वही,पृष्ठ सं- 43

  4. वही, पृष्ठ सं- 42

  5. विपिन चन्द्र, आधुनिक भारत का इतिहास, ओरियंट ब्लैकस्वान, तेलंगाना, 2019, पृष्ठ सं-299

  6. मैक्सिम गोर्की, संस्कृति के महारथियों आप किसके साथ हैं (लेख),बुद्धिजीवी का दायित्व (संकलन),गार्गी प्रकाशन, दिल्ली, जनवरी 2018, पृष्ठ सं- 85

  7. चमन लाल (संक. एवं संपा.), भगत सिंह के सम्पूर्ण दस्तावेज़, आधार प्रकाशन, हरियाणा, सं-2018, पृष्ठ सं – 151

  8. वही, पृष्ठ सं- 185

  9. वही, पृष्ठ सं- 178

  10. कविता कोश – गोरख पांडे

  11. चमन लाल (संक. एवं संपा.), भगत सिंह के सम्पूर्ण दस्तावेज़, आधार प्रकाशन, हरियाणा, सं-2018, पृष्ठ सं – 151

  12. वही, पृष्ठ सं- 462

  13. वही, पृष्ठ सं- 364

  14. वही, पृष्ठ सं- 262

  15. मुद्रराक्षस, भगत सिंह होने का मतलब, साहित्य उपक्रम, दिल्ली, दिसम्बर 2010, पृष्ठ सं- 14

  16. वही पृष्ठ सं- 15

  17. चमन लाल (संक. एवं संपा.), भगत सिंह के सम्पूर्ण दस्तावेज़, आधार प्रकाशन, हरियाणा, सं-2018, पृष्ठ सं – 178

  18. एंगेल्स, परिवार, निजी संपत्ति और राज्य की उत्पत्ति, पी.पी.एच,न्यू दिल्ली,2010, पृष्ठ सं- 79

  19. चमन लाल (संक. एवं संपा.), भगत सिंह के सम्पूर्ण दस्तावेज़, आधार प्रकाशन, हरियाणा, सं-2018, पृष्ठ सं – 238


 


 



  • नवीनसिंह


शोधार्थी (पी-एच.डी.), हिंदीविभाग,


अलीगढ़मुस्लिमयूनिवर्सिटी,अलीगढ़


Aksharwarta's PDF

Avgat Award 2021 Function - Organised by Aksharwarta International Research Magazine & Sanstha Krishna Basanti, Ujjain, M.P., India

Avgat Award 2021 Function  Held on 19 September 2021  Organised by Aksharwarta International Research Magazine & Sanstha Krishna Basanti...