Monday, April 6, 2020

मुक्त रचना....

मुक्त रचना....


एक बार जो पर्दा हटा हिज़ाब^ का.      [घूँघट ]
मुखड़ा मुझे दिख गया शबाब^ का.   [सुंदरता ]


हुस्न तो उसका लगा जैसे गुलाब का.
उसपर था क़यामत अंदाज़े इताब^ का.[गुस्सा ]


उसे देख मन भंवरा हुआ पराग का.
सोचता हूँ पन्ना पलट लूं किताब का.


वैसे अपना अलग मज़ा है नक़ाब^ का. [घूँघट ]
क्योंकि कोई अंत नहीं है सराब^ का. [मृगतृष्णा ]


देखो वहाँ कमल खिला कोना तालाब का.
कैसा दृश्य लग रहा रात के मेहराब^ का. [अर्धचंद्र ].


अभी वक़्त नहीं किसी इंकलाब^ का.  [मुहीम ]
कोई भरोसा नहीं इस मौसम खराब का.


अच्छा लगता है गुलिस्तां^ शादाब^ का. [फूलों का बाग, हरा-भरा ]
"उड़ता "मुस्कुराना तो देख आफ़ताब^ का.[सूर्य ].


द्वारा - सुरेंद्र सैनी बवानीवाल "उड़ता "
झज्जर -124103 (हरियाणा ).


Featured Post